गिलोय के फायदे | Giloy Ke Fayde

गिलोय के फायदे: गिलोय के बारे में तो आपने बहुत सी बातें सुनी होंगी और गिलोय के कुछ फायदों के बारे में भी जाना होगा, लेकिन इतना तो तय है कि गिलोय के बारे में जितना हम आपको बताने जा रहे हैं उतना आप नहीं जानते होंगे। आयुर्वेदिक ग्रंथों में गिलोय के बारे में कई लाभकारी बातें बताई गई हैं। आयुर्वेद में इसे रसायन माना जाता है जो सेहत के लिए अच्छा होता है।

गिलोय के फायदे | Giloy Ke Fayde
गिलोय के फायदे | Giloy Ke Fayde

गिलोय के पत्ते कसैले, कड़वे और स्वाद में तीखे होते हैं। गिलोय के प्रयोग से वात-पित्त और कफ को ठीक किया जा सकता है। यह पचने में आसान, भूख बढ़ाने के साथ-साथ आंखों के लिए भी फायदेमंद होता है। गिलोय के सेवन से आप प्यास, जलन, मधुमेह, कुष्ठ रोग और पीलिया में लाभ उठा सकते हैं।

इसके साथ ही यह वीर्य और बुद्धि को बढ़ाता है और बुखार, उल्टी, सूखी खांसी, हिचकी, बवासीर, तपेदिक, मूत्र रोगों में भी इसका उपयोग किया जाता है। महिलाओं की शारीरिक कमजोरी होने पर यह बहुत फायदेमंद होता है। आइये इस प्रकार के अन्य गिलोय के फायदे (Giloy Ke Fayde) के बारे में विस्तार से जानते है.

गिलोय के फायदे (Giloy Ke Fayde)

गिलोय के फायदे (Giloy Ke Fayde) निम्नलिखित है:

1. इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में गिलोय के फायदे

गिलोय की पत्त‍ियां पान के पत्ते की तरह होती हैं. इसकी पत्त‍ियों में कैल्शि‍यम, प्रोटीन, फॉस्फोरस पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है. इसके अलावा इसके तनों में स्टार्च की भी अच्छी मात्रा होती है. ये एक बेहतरीन पावर ड्रिंक है, जो इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने के साथ-साथ कई खतरनाक बीमारियों से सुरक्षा करता है.

2. आँखों के रोग में फायदेमंद गिलोय

गिलोय के औषधीय गुण आँखों के रोगों से राहत दिलाने में बहुत मदद करते हैं। इसके लिए 10 मिली गिलोय के रस में 1-1 ग्राम शहद व सेंधा नमक मिलाकर खूब अच्छी प्रकार से खरल में पीस लें। इसे आँखों में काजल की तरह लगाएं। इससे अँधेरा छाना, चुभन, और काला तथा सफेद मोतियाबिंद रोग ठीक होते हैं।

3. पीलिया के मरीजों के लिए गिलोय के फायदे

पीलिया के मरीजों के लिए भी गिलोय के पत्ते को फायदेमंद माना जाता है. कुछ लोग इसे चूर्ण के रूप में लेते हैं तो कुछ इसकी पत्त‍ियों को पानी में उबालकर पीते हैं. अगर आप चाहें तो गिलोय की पत्त‍ियों को पीसकर शहद के साथ मिलाकर भी ले सकते हैं.

Also Read:

4. कान की बीमारी में फायदेमंद गिलोय

गिलोय के तने को पानी में घिसकर गुनगुना कर लें। इसे कान में 2-2 बूंद दिन में दो बार डालने से कान का मैल (कान की गंदगी) निकल जाता है। कान के बीमारी से राहत पाने के लिए सही तरह से इस्तेमाल करने पर गिलोय के फायदे (giloy ke fayde) मिल सकते हैं। गिलोय का औषधीय गुण बिना कोई नुकसान पहुँचाये कान से मैल निकालने में मदद करते हैं, इससे कानों को नुकसान भी होता है।

5. स्किन एलेर्जी में गिलोय के फायदे

हाथ-पैरों में जलन या स्किन एलेर्जी से परेशान लोग भी इसे डाइट में शामिल कर सकते हैं. ऐसे लोगों के लिए गिलोय बहुत फायदेमंद है. गिलोय की पत्त‍ियों को पीसकर उसका पेस्ट तैयार कर लें और उसे सुबह-शाम पैरों पर और हथेलियों पर लगाएं.

6. टीबी रोग में फायदेमंद गिलोय

गिलोय का औषधीय गुण टीबी रोग के समस्याओं से निजात दिलाने में मदद करते हैं लेकिन इनको औषधि के रुप में बनाने के लिए इन सब चीजों के साथ मिलाकर काढ़ा बनाने की ज़रूरत होती है। अश्वगंधा, गिलोय, शतावर, दशमूल, बलामूल, अडूसा, पोहकरमूल तथा अतीस को बराबर भाग में लेकर इसका काढ़ा बनाएं। 20-30 मिली काढ़ा को सुबह और शाम सेवन करने से राजयक्ष्मा मतलब टीबी की बीमारी ठीक होती है। इस दौरान दूध का सेवन करना चाहिए। इसका सही तरह से सेवन ही यक्ष्मा (टीबी रोग) में गिलोय से पूरी तरह से लाभ उठा सकते हैं।

6. बुखार और सर्दी दूर करने के लिए फायदेमंद गिलोय

गिलोय का इस्तेमाल बुखार और सर्दी दूर करने के लिए भी किया जाता है. अगर बहुत दिनों से बुखार है और तापमान कम नहीं हो रहा है तो गिलोय की पत्त‍ियों का काढ़ा पीना फायदेमंद रहेगा.

Disclaimer : यह लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए। HindiQueries.Com इस जानकारी की जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Conclusion

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को गिलोय के फायदे (Giloy Ke Fayde) से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Leave a Comment

x