त्रिफला चूर्ण का फायदा | Triphala Churna Benefits In Hindi

त्रिफला चूर्ण का फायदा – आयुर्वेदिक चिकित्सा का इतिहास 5,000 साल से अधिक पुराना है। सदियों से आयुर्वेदिक उपचार में औषधीय गुणों वाली जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल किया जाता रहा है। त्रिफला भी इन्हीं जड़ी बूटियों में से एक है। जहां कहीं आयुर्वेदिक दवाओं की बात होती है, वहां त्रिफला का नाम जरूर आता है और अगर आप भी आयुर्वेदिक दवाओं का इस्तेमाल करते हैं तो आपको त्रिफला के बारे में भी पता होगा।

त्रिफला या त्रिफला चूर्ण एक से अधिक जड़ी-बूटियों से तैयार किया गया एक हर्बल मिश्रण है। चरक संहिता में बोर में त्रिफला के स्वास्थ्य लाभों का भी उल्लेख है। त्रिफला आंवला, विभीतकी और हरीतकी के मिश्रण से तैयार किया जाता है। यह आयुर्वेदिक मिश्रण कई बीमारियों के इलाज और रोकथाम में कारगर है।

सालों से स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से बचने के लिए त्रिफला चूर्ण का सेवन फायदेमंद माना जाता रहा है। इसी वजह से हम इस लेख में त्रिफला चूर्ण का फायदा (Triphala Churna Benefits In Hindi) के बारे में विस्तार से जानेंगे.

त्रिफला चूर्ण का फायदा (Triphala Churna Benefits In Hindi)

त्रिफला चूर्ण का फायदा | Triphala Churna Benefits In Hindi
त्रिफला चूर्ण का फायदा | Triphala Churna Benefits In Hindi

त्रिफला चूर्ण का फायदा (Triphala Churna Benefits In Hindi) निम्नलिखित हैं:

1. पाचन के लिए त्रिफला चूर्ण का फायदा

गलत खाना खाने या बाहर बहुत ज्यादा तैलीय खाना खाने से पेट और पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। इस समस्या को दूर करने के लिए त्रिफला चूर्ण एक अच्छा विकल्प हो सकता है। त्रिफला के औषधीय गुण पाचन शक्ति में सुधार कर पेट संबंधी समस्याओं से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। त्रिफला भोजन को ठीक से पचाने के अलावा शरीर में भोजन को अवशोषित करने में भी मदद कर सकता है। यह पेट से संबंधित अन्य समस्याओं जैसे कब्ज और इरिटेबल बाउल सिंड्रोम को भी ठीक कर सकता है।

2. त्रिफला चूर्ण का फायदा हैं आँखो के लिए गुणकारी

यह आंखों के कई रोगों और आंखों की रोशनी में सुधार के लिए भी फायदेमंद है। यह आंख की मांसपेशियों को मजबूत करता है और ग्लूकोमा, मोतियाबिंद के शुरुआती चरण और नेत्रश्लेष्मलाशोथ जैसी बीमारियों का भी इलाज करता है। रात को दो चम्मच त्रिफला चूर्ण को तांबे के बर्तन या मिट्टी के बर्तन में पानी से भरकर रात को भिगो दें। सुबह उठकर किसी कपड़े से छानकर उस पानी से आंखों को धो लें। यह आंखों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इससे आंखें स्वस्थ रहती हैं।

आंखों की जलन, लाली आदि से छुटकारा पाने के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है। त्रिफला को गाय के घी और शहद के मिश्रण के साथ सेवन करने से आंखों के लिए वरदान है। इसके अलावा एक गिलास पानी में एक चम्मच त्रिफला उबालकर 10-15 मिनट के लिए काढ़ा बना लें। इस काढ़े को अच्छी तरह से छान लें और आंखों को धोने के लिए इसका इस्तेमाल करें।

3. वजन कम करने के लिए त्रिफला चूर्ण का फायदा

मोटापा कम करने के लिए कुछ लोग डाइटिंग या जिम का सहारा लेते हैं, लेकिन इसका कोई खास असर नहीं होता। ऐसे में अगर त्रिफला चूर्ण का सेवन किया जाए तो यह कुछ हद तक फायदेमंद हो सकता है।

त्रिफला एक चिकित्सीय एजेंट के रूप में कार्य कर सकता है। यह न केवल वजन कम करने में मदद कर सकता है, बल्कि शरीर की चर्बी को भी कम कर सकता है। जानवरों पर किए गए एक अध्ययन के अनुसार अधिक खाने से होने वाले मोटापे पर त्रिफला का 10 सप्ताह तक सेवन करने से वजन और चर्बी दोनों में कमी दर्ज की गई है।

यदि त्रिफला चूर्ण का सेवन जिम, व्यायाम या योग के साथ किया जाए तो अंतर देखा जा सकता है। वजन कम करने के लिए त्रिफला चूर्ण को गर्म पानी में मिलाकर दिन में दो से तीन बार सेवन किया जा सकता है।

4. त्वचा के लिए फायदेमंद है त्रिफला चूर्ण

त्रिफला चूर्ण त्वचा संबंधी कई समस्याओं का इलाज कर सकता है और त्वचा में प्राकृतिक चमक भी लाता है। यह मृत कोशिकाओं को हटाता है, छिद्रों को साफ करता है और आपके रक्त को भी शुद्ध करता है जिससे आपके चेहरे पर प्राकृतिक चमक आती है। आप इसका उपयोग त्वचा पर चकत्ते, किसी भी प्रकार के निशान, मुंहासे या सनबर्न के इलाज के लिए कर सकते हैं।

त्रिफला अपने रक्त शुद्ध करने वाले गुणों के कारण त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह त्वचा की रंगत को एक समान करता है। यह त्वचा से दूषित पदार्थों को हटाता है और इसमें आंवला की मौजूदगी के कारण यह कोलेजन के निर्माण में भी मदद करता है। बहेरा त्वचा की रंजकता में मदद करता है। शहद के साथ इसका सेवन करने से चर्म रोग दूर होते हैं।

यह अपनी उच्च विटामिन सी सामग्री के कारण त्वचा के स्वास्थ्य में सुधार करता है। त्वचा की झुर्रियों को रोकने के लिए विटामिन सी वैज्ञानिक रूप से सिद्ध है। यह त्वचा का रूखापन भी दूर करता है।

5. रक्तचाप और स्वस्थ हृदय के लिए

त्रिफला चूर्ण रक्तचाप को नियंत्रित करने और हृदय स्वास्थ्य के लिए लाभकारी माना गया है। एक शोध में कहा गया है कि उच्च रक्तचाप को कम करने के लिए त्रिफला चूर्ण का उपयोग किया जा सकता है। इसके अलावा, यह कोलेस्ट्रॉल को कम करके हृदय रोगों से बचाने में मदद कर सकता है। वास्तव में, उच्च रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल हृदय रोग के लिए मुख्य जोखिम कारक माने जाते हैं। त्रिफला चूर्ण इन जोखिमों को कम करके हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद कर सकता है।

6. रोग-प्रतिरोधक क्षमता के लिए त्रिफला चूर्ण का फायदा

जैसा कि हम पहले ही ऊपर बता चुके हैं कि त्रिफला में रोग प्रतिरोधक क्षमता को नियंत्रित करने वाले गुण होते हैं। दरअसल, इम्यून सिस्टम कमजोर होते ही शरीर कई तरह की बीमारियों की चपेट में आ जाता है। ऐसे में त्रिफला में मौजूद विभिन्न सक्रिय यौगिक जैसे गैलिक एसिड और एलाजिक एसिड एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करते हैं, जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर बनाने का काम कर सकते हैं।

Disclaimer : यह लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए। HindiQueries.Com इस जानकारी की जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Conclusion

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को त्रिफला चूर्ण का फायदा (Triphala Churna Benefits In Hindi) से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Leave a Comment

x