कबीर दास का जीवन परिचय | Kabir Das Ka Jivan Parichay

कबीर दास का जीवन परिचय – संत कबीरदास हिंदी साहित्य के भक्ति काल के एकमात्र कवि हैं, जो जीवन भर समाज और लोगों के बीच प्रचलित लफ्फाजी का उपहास करते रहे। वे कर्म प्रधान समाज के हिमायती थे और इसकी झलक उनकी रचनाओं में स्पष्ट दिखाई देती है।

मानो उनका पूरा जीवन केवल जनकल्याण के लिए ही था। कबीर को वास्तव में एक सच्चे विश्व-प्रेमी का अनुभव था। कबीर की सबसे बड़ी विशेषता यह थी कि उनकी प्रतिभा में असीम गति और अदम्य कुशाग्रता थी। समाज में कबीर को जागरण युग का अग्रदूत कहा जाता है।

आज के आर्टिकल में हम कबीर दास का जीवन परिचय (Kabir Das Ka Jivan Parichay) के बारे में विस्तार से जानेंगे।

Also Read – मुंशी प्रेमचंद का जीवन परिचय

कबीर दास का जीवन परिचय (Kabir Das Ka Jivan Parichay)

कबीर दास का जीवन परिचय | Kabir Das Ka Jivan Parichay
कबीर दास का जीवन परिचय | Kabir Das Ka Jivan Parichay

कबीरदास के जन्म के संबंध में अनेक किंवदन्तियाँ हैं। कबीर पंथों द्वारा यह माना जाता है कि कबीर का जन्म एक सुंदर कमल के फूल पर हुआ था जो काशी के लहरतारा तालाब में उत्पन्न हुआ था।

कुछ लोगों का कहना है कि वह जन्म से मुसलमान थे और स्वामी रामानन्द के प्रभाव से उन्हें युवावस्था में ही हिन्दू धर्म का ज्ञान हो गया था। एक दिन कबीर सवा रात रहते हुए पंचगंगा घाट की सीढ़ियों पर गिर पड़े।

रामानंद जी गंगा में स्नान करने के लिए सीढ़ियाँ उतर रहे थे कि कबीर के शरीर पर उनका पैर गिर गया। उनके मुंह से तुरंत ‘राम-राम’ शब्द निकला। कबीर ने उसी राम को दीक्षा-मंत्र के रूप में स्वीकार किया और रामानंद जी को अपना गुरु स्वीकार किया। कबीर के शब्दों में-

हम कासी में प्रकट भये हैं,
रामानन्द चेताये।

कबीरपंथियों में इनके जन्म के विषय में यह पद्य प्रसिद्ध है-

चौदह सौ पचपन साल गए, चन्द्रवार एक ठाठ ठए।
जेठ सुदी बरसायत को पूरनमासी तिथि प्रगट भए॥
घन गरजें दामिनि दमके बूँदे बरषें झर लाग गए।
लहर तलाब में कमल खिले तहँ कबीर भानु प्रगट भए॥

Also Read – औरंगजेब जीवन परिचय एवं इतिहास

जन्मस्थान

कबीर की जन्मस्थली के बारे में तीन मत हैं: मगहर, काशी और आजमगढ़ में बेलहारा गाँव।

  • मगहर के पक्ष में तर्क दिया जाता है कि कबीर ने अपने काम में वहाँ का उल्लेख किया है: “पहले मगहर पायो पुनी काशी बसे यानी उन्होंने काशी में रहने से पहले मगहर को देखा। मगहर अब वाराणसी के पास है और वहाँ कबीर का एक मकबरा भी है।
  • कबीर का अधिकांश जीवन काशी में बीता। उन्हें केवल काशी के बुनकर के रूप में जाना जाता है। कभी-कभी कबीरपंथी भी मानते हैं कि कबीर का जन्म काशी में हुआ था। लेकिन किसी प्रमाण के अभाव में निश्चय टूट जाता है।
  • आजमगढ़ जिले के बेलहारा गांव को कई लोग कबीर साहब की जन्मस्थली मानते हैं।

उनका कहना है कि ‘बेलहारा’ स्वयं बदलकर तरंग-तारा बन गया। फिर भी पता लगाने पर न तो बेलहारा गांव का ठीक से पता चल पाता है और न ही पता चलता है कि बेलहारा कैसे लहर का तारा बना और आजमगढ़ जिले से काशी कैसे आया? हालांकि, आजमगढ़ जिले में कबीर, उनके संप्रदाय या अनुयायियों का कोई स्मारक नहीं है।

Also Read – महात्मा गांधी का जीवन परिच

माता-पिता

कबीर के माता-पिता के बारे में भी कोई निश्चित राय नहीं है। यह अनुपम प्रकाश “नीमा” और “नीरू” के गर्भ से उत्पन्न हुआ या लहर तालाब के पास एक विधवा ब्राह्मण के पाप-बच्चे के रूप में आकर अशुद्ध हुआ, यह ठीक से नहीं कहा जा सकता। कई मत हैं कि नीमा और नीरू ने ही उन्हें पाला। एक पौराणिक कथा के अनुसार कबीर को एक विधवा ब्राह्मणी का पुत्र कहा जाता है, जिसे रामानंद जी ने गलती से पुत्री का वरदान दे दिया था।

एक जगह कबीर ने कहा है :-

"जाति जुलाहा नाम कबीरा
बनि बनि फिरो उदासी।'

कबीर के एक श्लोक से ऐसा प्रतीत होता है कि उन्हें अपनी माता की मृत्यु से गहरा दुख हुआ था। उनके पिता ने उन्हें ढेर सारी खुशियां दी थीं। वह एक जगह कहता है कि उसके पिता बहुत “गंभीर” थे। ग्रंथ साहिब के एक श्लोक से ज्ञात होता है कि कबीर अपने वनकार्य की उपेक्षा करते हुए हरिनामा के रस में लीन रहते थे।

उसकी माँ को प्रतिदिन एक घड़ा लेना पड़ता था। जब से कबीर ने माला ली है, तब से उनकी मां को कभी सुख नहीं मिला। इस वजह से वह काफी गुस्से में थी। इससे पता चलता है कि उसकी माँ उसकी भक्ति और संत-संस्कार के कारण पीड़ित थी।

Also Read – नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय हिन्दी में

बचपन

कबीरदास का पालन-पोषण एक बुनकर परिवार में हुआ था, इसलिए यह आश्चर्य की बात नहीं है कि उनकी राय का एक महत्वपूर्ण हिस्सा इस जाति की पारंपरिक मान्यताओं से प्रभावित रहा है। हालांकि ‘बुनकर’ शब्द फारसी भाषा का है, [5] संस्कृत पुराणों में इस जाति की उत्पत्ति के बारे में कुछ चर्चा है। ब्रह्मवैवर्त पुराण के ब्रह्मखंड के दसवें अध्याय में बताया गया है कि ‘जोला’ या बुनकर जाति की उत्पत्ति कुविन्दकन्या में म्लेच्छ से हुई है।

Also Read – डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जीवन परिचय

जुलाहा

बुनकर मुसलमान हैं, लेकिन उनसे दूसरे मुसलमानों में बुनियादी फर्क है। 1901 की मानव जनगणना के आधार पर रिजली साहब ने ‘भारत के लोग’ नामक ग्रंथ की रचना की। इस ग्रंथ में उन्होंने तीन मुस्लिम जातियों की तुलना की। वे तीन हैं: सैयद, पठान और बुनकर। इनमें पठान पूरे भारत में फैले हुए हैं, लेकिन इनकी संख्या कहीं ज्यादा नहीं है।

ऐसा लगता है कि बाहर से आकर वे अपनी सुविधा के अनुसार विभिन्न स्थानों पर बस गए। लेकिन बुनकर केवल पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार और बंगाल में पाए जाते हैं। उन दिनों जब कबीरदास इस बुनकर-जाति को अलंकृत कर रहे थे, ऐसा लगता है कि इस जाति ने कुछ ही पीढ़ियों से मुस्लिम धर्म को अपनाया था। कबीरदास की वाणी को समझने के लिए यह जानना अति आवश्यक है कि उस समय इस जाति के पुराने संस्कार क्या थे।

कोरी उत्तर भारत के वन्यजीवों में प्रमुख है। बैन्स बुनकरों को कोरिस की उदार जाति मानते हैं। कुछ पंडितों ने यह भी अनुमान लगाया है कि जो लोग मुस्लिम धर्म को अपनाते हैं वे केवल बुनकर हैं। उल्लेखनीय है कि कबीरदास जहां बार-बार खुद को जुलाहा कहते हैं,

(1) जाति बुनकर मती काऊ रोगी। हर्षी बंदूक रमई कबीर।
(2) हे ब्राह्मण, मैं काशी का जुलाहा हूँ।

वहां तो कभी उन्होंने खुद को ब्लैंक कहा है। ऐसा लगता है कि कबीर दास के समय में बुनकरों ने मुस्लिम धर्म अपना लिया था, फिर भी आम लोग कोरी नाम से परिचित थे।

पहली बात गौर करने वाली है कि कबीरदास खुद को कई बार बुनकर कह चुके हैं, लेकिन एक बार भी मुसलमान नहीं। वे हर समय खुद को ‘ना-मुसलमान’ कहते रहे। यह निःसंदेह अध्यात्म पक्ष में एक बहुत ही उच्च भावना है, लेकिन कबीरदास ने स्वयं को इस प्रकार अद्वितीय बताया है कि कभी-कभी यह संदेह होता है कि वे आध्यात्मिक सत्य के अतिरिक्त एक सामाजिक तथ्य का भी उल्लेख कर रहे हैं।

उन दिनों धार्मिक रूप से धार्मिक युवा योगियों की जाति का शाब्दिक अर्थ ‘ना-हिंदू-न-मुस्लिम’ था। कबीरदास ने कम से कम एक श्लोक में स्पष्ट रूप से स्वीकार किया है कि हिंदू हैं और, मुसलमान हैं और और योगी दूसरे हैं, क्योंकि योगी या जोगी ‘गोरख-गोरख’ का जाप करते हैं, हिंदू ‘राम-राम’ का उच्चारण करते हैं और मुसलमान कहते हैं ‘भगवान- भगवान’।

शिक्षा

कबीर बड़े होने लगे। कबीर पढ़े-लिखे नहीं थे- अपनी अवस्था के बालकों से एकदम भिन्न रहते थे। कबीरदास की खेल में कोई रुचि नहीं थी। मदरसे भेजने लायक़ साधन पिता-माता के पास नहीं थे। जिसे हर दिन भोजन के लिए ही चिंता रहती हो, उस पिता के मन में कबीर को पढ़ाने का विचार भी न उठा होगा। यही कारण है कि वे किताबी विद्या प्राप्त न कर सके।

मसि कागद छूवो नहीं, क़लम गही नहिं हाथ।

उन्होंने स्वयं ग्रंथ नहीं लिखे, मुँह से बोले और उनके शिष्यों ने उसे लिख लिया।

वैवाहिक जीवन

कबीर का विवाह वनखेड़ी बैरागी की पालिता कन्या ‘लोई’ के साथ हुआ था। कबीर को कमाल और कमाली नाम की दो संतान भी थी। ग्रंथ साहब के एक श्लोक से विदित होता है कि कबीर का पुत्र कमाल उनके मत का विरोधी था।

बूड़ा बंस कबीर का, उपजा पूत कमाल।
हरि का सिमरन छोडि के, घर ले आया माल।

कबीर की पुत्री कमाली का उल्लेख उनकी बानियों में कहीं नहीं मिलता है। कहा जाता है कि कबीर के घर में रात – दिन मुडियों का जमघट रहने से बच्चों को रोटी तक मिलना कठिन हो गया था। इस कारण से कबीर की पत्नी झुंझला उठती थी। एक जगह कबीर उसको समझाते हैं :-

सुनि अंघली लोई बंपीर।
इन मुड़ियन भजि सरन कबीर।।

जबकि कबीर को कबीर पंथ में, बाल- ब्रह्मचारी और विराणी माना जाता है। इस पंथ के अनुसार कामात्य उसका शिष्य था और कमाली तथा लोई उनकी शिष्या। लोई शब्द का प्रयोग कबीर ने एक जगह कंबल के रुप में भी किया है। वस्तुतः कबीर की पत्नी और संतान दोनों थे। एक जगह लोई को पुकार कर कबीर कहते हैं :-

"कहत कबीर सुनहु रे लोई।
हरि बिन राखन हार न कोई।।

यह हो सकता हो कि पहले लोई पत्नी होगी, बाद में कबीर ने इसे शिष्या बना लिया हो। उन्होंने स्पष्ट कहा है :-

नारी तो हम भी करी, पाया नहीं विचार।
जब जानी तब परिहरि, नारी महा विकार।।

अंतिम शब्द

तो दोस्तों आज हमने कबीर दास का जीवन परिचय (Kabir Das Ka Jivan Parichay) के बारे में विस्तार से जाना है और मैं आशा करता हु की आप सभी को यह लेख पसंद आया होगा और आप के लिए हेल्पफुल भी होगा।

यदि आप को यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे अपने सभी दोस्तों के साथ भी जरुर से शेयर करे।

Leave a Comment

x