डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जीवन परिचय | Dr. Rajendra Prasad Biography in hindi

Dr Rajendra Prasad Biography in hindi : इस लेख में हम आपको भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जीवन परिचय के बारे में बतायेंगे। इसके साथ ही हम आपको इस लेख में डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद (Dr. Rajendra Prasad) जी से जुड़ी अन्य जानकारियाँ भी जानेंगे। डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी के जीवन के बारे में जानने के लिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

Dr. Rajendra Prasad Biography in hindi
Dr. Rajendra Prasad

भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद (First President of India in Hindi)

डॉ राजेंद्र प्रसाद 26 जनवरी 1950 को भारत के पहले राष्ट्रपति बने। जब अगला राष्ट्रपति चुनाव 1957 में हुआ, तो उस चुनाव में डॉ राजेंद्र प्रसाद को फिर से राष्ट्रपति बनाया गया। प्रसाद जी 1950 से 1962 तक राष्ट्रपति रहे और 1962 में उन्होंने राष्ट्रपति का पद छोड़ दिया, फिर वे पटना चले गए और बिहार विद्यापीठ में रहकर जनसेवा करने लगे।

डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जीवन परिचय (Dr. Rajendra Prasad Biography in Hindi)

भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद सादगी, दयालु और शांत स्वभाव के व्यक्ति थे। उनका जन्म 3 दिसंबर 1884 को हुआ था। उनके पिता का नाम महादेव सहाय और माता का नाम कमलेश्वरी देवी था। पिता फारसी और संस्कृत भाषा के विद्वान थे और माता धार्मिक महिला थीं।

बचपन में अपनी प्रारंभिक पारंपरिक शिक्षा के बाद वे छपरा और फिर पटना चले गए। वहीं पढ़ाई के दौरान उन्होंने कानून में मास्टर डिग्री के साथ डॉक्टरेट की डिग्री भी हासिल की। कानून की पढ़ाई के साथ-साथ वह राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए।

वह भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले भारतीय नेताओं में से एक थे। महात्मा गांधी ने उन्हें अपने सहयोगी के रूप में चुना था और साबरमती आश्रम की तर्ज पर सदाकत आश्रम की एक नई प्रयोगशाला की जिम्मेदारी भी सौंपी थी।

बाद में उन्होंने राजनीति से संन्यास ले लिया और अपना शेष जीवन पटना के पास एक आश्रम में बिताया, जहाँ उन्होंने बीमारी के कारण 28 फरवरी 1963 को अंतिम सांस ली।

नाम (Name)डॉ. राजेंद्र प्रसाद
उपनाम (Nick Name)देशरत्न
के लिए प्रसिद्ध (Famous for)भारत के प्रथम राष्ट्रपति
जन्म तिथि (Birth Date)3 दिसम्बर 1884
मृत्यु तिथि (Death Date)28 फरवरी 1963
जन्म स्थान (Birth Place)जीरादेई, बंगाल प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत (बिहार में)
मृत्यु स्थल (Death Place)पटना, बिहार
राष्ट्रीयता (Nationality)भारतीय
धर्म (Religion)हिन्दू
जाति (Caste)कायस्थ ब्राह्मण
राजनीतिक दलभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी
पुरस्कार/सम्मान (Award/Honor)भारत रत्‍न (1962)
हस्ताक्षर (Signature)Dr. Rajendra Prasad signature

Dr. Rajendra Prasad Family, Education and More

5 साल की उम्र में प्रसाद के माता-पिता ने उन्हें एक मौलवी के पास भेजना शुरू कर दिया, ताकि उन्हें फारसी, उर्दू, हिंदी का ज्ञान हो सके। डॉ. राजेंद्र प्रसाद की प्रारंभिक शिक्षा उनके गांव जीरादेई में हुई। उनका बचपन से ही पढ़ाई के प्रति रुझान था। अपने भाई महेंद्र प्रताप के साथ, उन्होंने पटना में टीके घोष अकादमी में भाग लेना शुरू किया।

इसके बाद उन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय में प्रवेश के लिए एक परीक्षा दी, जिसमें उन्होंने बहुत अच्छे अंकों के साथ उत्तीर्ण किया, जिसके बाद उन्हें हर महीने 30 रुपये की छात्रवृत्ति मिलने लगी। पहली बार उनके गांव का एक युवक कलकत्ता विश्वविद्यालय में प्रवेश पाने में सफल हुआ था जो निश्चित रूप से राजेंद्र प्रसाद और उनके परिवार के लिए गर्व की बात थी।

1902 में, प्रसाद ने प्रेसीडेंसी कॉलेज में प्रवेश लिया, जहाँ से उन्होंने स्नातक किया। उन्होंने १९०७ में कलकत्ता विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में एमए किया। उन्होंने १९१५ में कानून में अपनी मास्टर डिग्री पूरी की, जिसके लिए उन्हें स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया। इसके बाद उन्होंने कानून में डॉक्टरेट की डिग्री भी हासिल की। इसके बाद वे पटना आ गए और वकालत करने लगे, जिससे उन्हें खूब पैसा और नाम मिला।

पिता (Father)महादेव सहाय (अध्यापक)
माता (Mother)कमलेश्वरी देवी
भाई (Brother)महेंद्र प्रसाद
बहन (Sister)भगवती देवी
बेटा (Son)मृतुंजय प्रसाद
विवाह तिथि (marriage date)वर्ष 1897
स्कूल/विद्यालयजिला स्कूल, छपरा, बिहार
टी० के० घोष अकादमी, पटना
महाविद्यालय/विश्वविद्यालयप्रेसिडेंसी कॉलेज, कोलकाता
कोलकाता विश्वविद्यालय
शैक्षणिक योग्यताप्रेसिडेंसी कॉलेज, कोलकाता से स्नातक
कोलकाता विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में परास्नातक
कोलकाता विश्वविद्यालय से विधिशास्त्र में परास्नातक (LLM)

डॉ राजेंद्र प्रसाद के राजनीतक दौर (Dr. Rajendra Prasad’s political phase in Hindi)

जब ब्रिटिश सरकार बिहार में थी, बिहार में खाड़ी नील की खेती करती थी और उस नील की खेती की देखभाल के लिए ब्रिटिश सरकार ने मजदूरों को काम पर रखा था, लेकिन उन्हें सरकार से उचित पैसा नहीं मिला। 1917 में जब गांधी जी को इस बात का पता चला तो वे बिहार आकर इस समस्या का समाधान करना चाहते थे। इसी बीच महात्मा गांधी की मुलाकात डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी से हुई, राजेंद्र प्रसाद जी महात्मा गांधी की विचारधारा से काफी प्रभावित हुए।

चंपारण आंदोलन के दौरान राजेंद्र प्रसाद महात्मा गांधी के बहुत अच्छे दोस्त बन गए। राजेंद्र प्रसाद जी जब गांधी जी के करीब आए तो उन्होंने अपने अंदर की रूढ़िवादी विचारधारा को त्याग दिया और साहस के साथ स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लिया। इस दौरान डॉ. राजेंद्र प्रसाद जी को कई समस्याओं का सामना करना पड़ा और साथ ही उन्हें जेल भी जाना पड़ा। 1934 में, राजेंद्र प्रसाद को मुंबई कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया। वे कई बार राष्ट्रपति बने।

राजेंद्र प्रसाद ने 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिसके दौरान उन्हें गिरफ्तार भी किया गया और निगरानी में रखा गया। 15 अगस्त 1947 को हमारा भारत स्वतंत्र हुआ, जिसे हम स्वतंत्रता दिवस कहते हैं। लेकिन हमारा संविधान उससे पहले बना था। भीमराव अंबेडकर और राजेंद्र प्रसाद ने संविधान बनाने में प्रमुख भूमिका निभाई। भारत के पहले राष्ट्रपति होने के नाते राजेंद्र प्रसाद जी को भारत की संविधान समिति का अध्यक्ष बनाया गया और साथ ही संविधान पर हस्ताक्षर करके पूरे भारत पर कानून लागू किया गया।

जब भारत में संविधान लागू हुआ, उससे एक दिन पहले यानी 25 जनवरी 1950 को उनकी बहन भगवती देवी की मृत्यु हो गई, लेकिन फिर भी प्रसाद जी ने भारत गणराज्य की स्थापना की रस्में पूरी करने के बाद ही अपनी बहन के दाह संस्कार में हिस्सा लिया। . . राजेंद्र प्रसाद जी ने 12 साल तक राष्ट्रपति के रूप में सेवा करने के बाद, राजेंद्र जी ने 1962 में अपनी छुट्टी की घोषणा की। छुट्टी लेने के बाद, प्रसाद जी को भारत सरकार के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया। गांधीजी ने भारत के सभी निवासियों से विदेशी संस्थानों का बहिष्कार करने की अपील की, फिर उन्होंने सबसे पहले अपने बेटे मृत्युंजय प्रसाद का परिचय कराया, जो पढ़ने-लिखने में बहुत मेधावी छात्र थे। उन्हें कोलकाता विश्वविद्यालय से हटा दिया गया और बिहार विद्यापीठ में भर्ती कराया गया।

यह भी देखें :-  नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय हिन्दी में

1914 में बिहार और बंगाल में आई बाढ़ में उन्होंने बड़े उत्साह के साथ सेवा कार्य किया। 1934 में बिहार में आए भूकंप के समय राजेंद्र बाबू जेल में थे। दो साल तक जेल से रिहा होने के बाद, उन्होंने भूकंप पीड़ितों के लिए धन जुटाने में पूरे मन से काम किया और अपने व्यक्तिगत प्रयासों के माध्यम से, उन्होंने वायसराय के धन से अधिक धन एकत्र किया। सिंध और क्वेटा के भूकंपों के दौरान भी उन्होंने अपने हाथों में कई राहत शिविरों की देखभाल की थी। 1934 में, वे मुंबई अधिवेशन में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए। नेताजी सुभाष चंद्र बोस के राष्ट्रपति पद से इस्तीफा देने के बाद, उन्होंने 1939 में एक बार फिर कांग्रेस अध्यक्ष का पद संभाला।

कृतियाँ

अपनी आत्मकथा (1946) के अलावा, राजेंद्र बाबू ने कई किताबें भी लिखीं जिनमें बापू के कदमों में बाबू (1954), इंडिया डिवाइडेड (1946), चंपारण में सत्याग्रह (1922), गांधीजी का योगदान, भारतीय संस्कृति और खादी का अर्थशास्त्र आदि शामिल हैं।

डॉ राजेंद्र प्रसाद की मृत्यु (Dr Rajendra Prasad Death)

डॉ. प्रसाद का निधन 28 फरवरी 1963 को हुआ था। उनके जीवन से जुड़ी कई ऐसी घटनाएं हैं जो साबित करती हैं कि राजेंद्र प्रसाद बहुत दयालु और शुद्ध स्वभाव के थे। भारतीय राजनीतिक इतिहास में उनकी छवि एक महान और विनम्र राष्ट्रपति की है। प्रसाद जी की स्मृति में पटना में ‘राजेंद्र स्मृति संग्रहालय’ बनाया गया।

डॉ. राजेंद्र प्रसाद के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न

1. डॉ राजेंद्र प्रसाद कौन थे?

उत्तर :- भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद थे।

2. डॉ राजेंद्र प्रसाद के पिता का नाम

उत्तर :- महादेव सहाय (अध्यापक)

3. डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का मृत्यु कब हुआ था?

उत्तर :- 28 फरवरी 1963

4. डॉ राजेंद्र प्रसाद का जन्म कब हुआ था?

उत्तर :- 3 दिसम्बर 1884

5. डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जन्म स्थान कहां है?

उत्तर :- जीरादेई, बंगाल प्रेसीडेंसी, ब्रिटिश भारत (बिहार में)

Conclusion

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जीवन परिचय (Dr. Rajendra Prasad Biography in Hindi) से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में भी पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें जो लोग अपनी लम्बाई बढ़ाना चाहतें हैं, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Leave a Comment

x