Bharat ka Sabse Uncha Jalprapat | भारत का सबसे ऊंचा जलप्रपात

Bharat ka Sabse Uncha Jalprapat – दोस्तों क्या आप जानते है की भारत का सबसे ऊंचा जलप्रपात कौन सा है? यदि नहीं जानते तो इस पोस्ट के साथ बने रहे क्योंकि आज मैं आप को भारत का सबसे ऊंचा झरना कौन सा है, इसके बारे में विस्तार से बताने जा रहा हूँ.

Bharat ka Sabse Uncha Jalprapat | भारत का सबसे ऊंचा जलप्रपात
Bharat ka Sabse Uncha Jalprapat | भारत का सबसे ऊंचा जलप्रपात

भारत में मानसून का समय काफी सुहाना होता है, मानसून की वजह से देश का प्राकृतिक सौंदर्य और नदियों का बहाव काफी बढ़ जाता है इसी के साथ मानसून आने से खाड़ियों में जलप्रपात (Waterfall) का निर्माण हो जाता है उसी के साथ खाड़ियां पेड़ पौधों, रंग बिरंगे फूलों से घिर जाती है. पर्वत हरे पेड़ों से घिर जाते हैं जो की देखने में काफी सुन्दर लगते हैं, इस आर्टिकल में आप जानोगे की भारत का सबसे ऊँचा जलप्रपात कौनसा है? – Bharat Ka Sabse Uncha Jalprapat.

Also Read: Globe Kya Hai

जलप्रपात क्या है?

जब किसी नदी या फिर पर्वत से एक बहुत बड़ा ढलान बन जाता है, और जब उस बड़े ढलान से पानी निचे गिरता है तो उसे जलप्रपात कहा जाता है. जोकि 50 फ़ीट से लेकर 4000 फ़ीट जितना ऊँचा हो सकता है.

भारत का सबसे ऊंचा जलप्रपात कौन सा है?

Bharat ka Sabse Uncha Jalprapat – भारत नदियों, पहाड़ो, समुन्द्रों, इत्यादि जैसे कई प्राकृतिक संसाधनों से पूर्ण देश हैं। इन सब के अलावा जलप्रपात ( Waterfall ) भी प्राकृतिक का एक बेहतरीन तोहफा है। भारत में कई जलप्रपात हैं जो कि भारत के अलग अलग राज्यों देखने को मिल जाते हैं।

भारत में मौजूद जलप्रपात अलग-अलग ऊंचाई के हैं। यहां मौजूद जलप्रपातो में से सबसे ऊंचे जलप्रपात की बात करें तो, भारत का सबसे ऊंचा जलप्रपात कुंचिकल जलप्रपात ( Kunchikal Fall ) है। कुंचिकल जलप्रपात भारत के एक राज्य कर्नाटक में मौजूद है।

भारत का सबसे ऊंचा जलप्रपात कर्णाटक के Masthikatte  के नज़दीक, शिमोगा ज़िले के Nidagodu गांव में मौजूद है। इस सबसे ऊंचे जलप्रपात की कुल ऊंचाई 455 मीटर यानी 1493 फ़ीट है। ऊंचाई के आधार पर यह जलप्रपात विश्व का 116वां सबसे ऊंचा जलप्रपात हैं।  यह जलप्रपात वराही नदी ( Varahi Rover ) से निकलती है। अर्थात जलप्रपात के पानी का श्रोत वराही नदी है। चट्टानों से बहती हुई यह नदी एक खूबसूरत दृश्य बनाती है। इस जलप्रपात को देखने के लिए बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं।

ऊंचाई फ़ीट में : 1493 फ़ीट

ऊंचाई मीटर में : 455 मीटर 

इसके आलावा अन्य कई जलप्रपात भारत (Waterfalls in India in Hindi) में मौजूद है जिनके लिस्ट निचे दिया हुआ है.

Also Read: Job Interview Ki Taiyari Kaise Kare

भारत के अन्य सबसे ऊँचे जलप्रपात

2. Barehipani Falls (बरेहिपानी झरना)

Location – मयूरभंज, उड़ीसा

Height – 399 m

बरेहिपानी झरना भारत के उड़ीसा राज्य में स्थित है. जो कि सिम्पलीपाल नेशनल पार्क में मौजूद है.

उड़ीसा का मयूरभंज जिले में मौजूद है. और यह भारत का दूसरा सबसे ऊंचा झरना कहा जाता है.

पूर्वी घाट के पहाड़ों की श्रृंखला मेघासुनी पर्वत के बुद्धाबलंगा का नदी से निकलने वाला यह झरना बहुत ही मनोरम झरना है.

इसी झरने के बगल में एक और झरना है, जिसका नाम जोरंडा झरना है.

3. Langshiang Falls (लांगशिआंग झरना)

location – पश्चिमी खासी हिल्स जिला , मेघालय

Height- 337 m

खांसी पहाड़ों के जंगलों में मौजूद बेहद ही मनोरम यह झरना पर्यटकों के लिए सबसे अच्छा जगह माना जाता है.

यह झरना 337 मीटर की ऊंचाई से गिरता है. झरना मेघालय राज्य के कुछ सबसे ऊंचा झरना में गिना जाता है.

और नॉर्थ ईस्ट भारत का सबसे ऊंचा झरना में से माना जाता है झरना ऊंची पहाड़ी जंगली रास्तों से नीचे की ओर गिरता है.

Also Read: संज्ञा की परिभाषा, संज्ञा के भेद कितने होते हैं

4. Nohkalikai Falls (नोहकालीकई झरना)

Location- पूर्वी खासी हिल्स जिला, मेघालय

Height – 340 m

नॉर्थईस्ट भारत का सबसे ऊंचा झरना कहे जाने वाला यह झरना भारत के कुछ सबसे मनोरम झरने वाले स्थान में से एक है.

क्योंकि यहां पर मौजूद है चेरापूंजी जहां पर भारत में सबसे ज्यादा बारिश रिकॉर्ड की जाती है.

इस जगह पर निरंतर बारिश होती ही रहती है. इसलिए यहां का मौसम हमेशा ही सुहावना बना रहता है.

निरंतर बारिश की वजह से यहां का झरना हमेशा ही बहता रहता है.

इसलिए यहां पर सैलानियों का जमावड़ा बहुत ज्यादा देखा जाता है.

5. Dudhsagar Falls (दूधसागर झरना)

Location – गोवा

Height – 320 m

दूधसागर झरना गोवा के मंडोवी नदी से  निकलता है जो कि पश्चिमी घाट के पहाड़ों के ऊपर से गिरता है. यह गोवा की राजधानी पणजी से 60 किलोमीटर दूर है.

झरने के पास  भगवान महावीर  अभ्यारण भी मौजूद है. यह झरना कर्नाटक और गोवा  राज्य के बॉर्डर पर मौजूद है.

झरने के चारों ओर बहुत ही सुरम्य घने जंगल मौजूद हैं. मानसून सीजन में यहां पर पर्यटकों का जमावड़ा बहुत ही जबरदस्त लगता है.

गोवा में स्थित ये झरना 320 मीटर तक ऊँचा हैं, जो इस भारत का पांचवा सबसे ऊँचा झरना (bharat ka sabse uncha jharnaबनाता हैं.

Also Read: Teachers Day Speech in Hindi

6. Nohsngithiang Falls (नोह्स्न्गीतीआंग झरना)

Location – पूर्वी खासी हिल्स जिला, मेघालय

Height – 315 m

इस झरने को सेवेन सिस्टर वाटरफॉल या माँसमाई फॉल के नाम से भी जाना जाता है.

सात भागों में बांटा या झरना मेघालय के माँसमाई गांव से 1 किलोमीटर दूर है.

और यह मेघालय के ईस्ट खासी हिल्स डिस्ट्रिक्ट में पड़ता है.

पहाड़ से 315 मीटर की ऊंचाई से गिरने के कारण यह भारत के कुछ सबसे ऊंचे झरने में से गिना जाता है.

7. Kynrem Falls (काईनरेम झरना)

Location – चेरापुंजी, मेघालय

Height – 305 m

काइनरेम झरना भी मेघालय के ईस्ट खासी हिल्स डिस्ट्रिक्ट मैं पडता है.

चेरापूंजी से 12 किलोमीटर दूरी पर स्थित है. और यहां पर थांगखारंग पार्क भी मौजूद है, जो इसे बहुत ही सुंदर बनाता है.

और भारत का सातवां सबसे ऊंचा झरना बनाता है.

8. Meenmutty Falls (मीनमुट्टी झरना)

Location – वायनाड, केरला

Height – 300 m

केरल को भगवान का अपना घर भी कहा जाता है, क्योंकि केरल पश्चिमी घाट के प्राकृतिक सुरम्यता से घिरा हुआ है.

यहां पर ऊंचे ऊंचे पहाड़ हैं, जो की दक्षिण भारत के सबसे ऊंची चोटियों में से एक हैं.

इसलिए यहां पर ऊंचे ऊंचे झरना होना भी एक वाजिब बात है.

केरल में स्थित ये झरना 300 मीटर तक ऊँचा हैं, जो इस भारत का आठवां सबसे ऊँचा झरना (highest waterfall in india) बनाता हैं.

9. Thalaiyar Falls (थलईयार झरना)

Location – तमिलनाडु

Height – 297 m

तमिलनाडु भी प्राकृतिक सौंदर्य में किसी भी राज्य से पीछे नहीं है.

यहां पर मौजूद थालाईयार झरना भारत के कुछ सबसे सुंदर झरना में से गिना जाता है.

इस झरने को रेड टेल्स झरने के नाम से भी जाना जाता है.

तमिलनाडु के थेणी जिले के देवाधानापट्टी मैं मौजूद यह झरना दक्षिण भारत के कुछ सबसे ऊंचे झरने में से हैं.

यह दुनिया का 267 में सबसे ऊंचा झरना है.

10. Barkana Falls (बरकना झरना)

Location – शिमोगा, कर्नाटक

Height – 259 m

कर्नाटक के ही  शिमोगा में स्थित बरकाना झरना भारत का दसवां सबसे ऊंचा झरना है.

और यह झरना भी  पश्चिमी घाट के पहाड़ों से ही नीचे गिरता है.

कर्नाटक में स्थित ये झरना 259 मीटर तक ऊँचा हैं, जो इस भारत का दसवां सबसे ऊँचा झरना (highest waterfall in india) बनाता हैं.

यह झरना कर्णाटक में ही मौजूद सीता नदी के द्वारा बनता हैं. यह पश्चिमी घाट के पहाड़ों से नीचे गिरता हैं.

अंतिम शब्द

तो दोस्तों आज हमने भारत के सबसे ऊँचे जलप्रपात के बारे में जाना है और मैं आशा करता हु की आप सभी को आज की यह पोस्ट जरुर से पसंद आई होगी. यदि आप को यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी जरुर से शेयर करे.

आर्टिकल को पूरा पढने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद.

Leave a Comment

x