Bitcoin Mining: बिटकॉइन कैसे तैयार किया जाता है? जानिए यह कैसे काम करता है और इसमें किस कंप्यूटिंग सिस्टम की जरूरत होती है

Bitcoin Mining : कोई भी व्यक्ति बिटक्वाइन (bitcoin miner) तैयार कर सकता है, लेकिन उसके पास विभिन्न सॉफ्टवेयर से लैस बड़ा कंप्यूटिंग सिस्टम (computing system) होना चाहिए। साथ ही माइनिंग के लिए पर्याप्त मात्रा में बिजली भी होना जरूरी है।

Bitcoin Mining
Bitcoin Mining

क्या आप अभी भी सोच रहे हैं कि बिटकॉइन खरीदे बिना आप इसे कैसे प्राप्त कर सकते हैं? ऐसा आप दुनिया की सबसे पुरानी क्रिप्टो करेंसी को माइन करके यानि तैयार करके कर सकते हैं। यह सबसे लोकप्रिय आभासी मुद्रा बिटकॉइन और डिजिटल मुद्रा को ब्लॉकचेन तकनीक से खनन किया जा सकता है। खनन क्रिप्टोग्राफिक समीकरणों को हल करके क्रिप्टोकुरेंसी प्राप्त करने की प्रक्रिया है। इसके लिए बहुत अधिक क्षमता वाले कंप्यूटर की आवश्यकता होती है।

कोई भी व्यक्ति बिटकॉइन माइनिंग कर सकता है, लेकिन उसके पास विभिन्न सॉफ्टवेयर से लैस उच्च क्षमता वाला कंप्यूटिंग सिस्टम होना चाहिए। इसके साथ ही खनन के लिए पर्याप्त मात्रा में बिजली की आपूर्ति होना भी आवश्यक है।

बिटकॉइन माइनिंग के लिए आपको कुछ चीजें जानने की जरूरत है –

बिटकॉइन माइनिंग क्या है?

बिटकॉइन माइनिंग (Bitcoin Mining) ऐसे डिजिटल सिक्के को बिना खरीदे प्राप्त करने की एक प्रक्रिया है। खनन के माध्यम से, कोई नया बिटकॉइन बना सकता है, जिसका उपयोग बिटकॉइन लेनदेन में किया जा सकता है और इसे ब्लॉकचेन के खाता बही में भी जोड़ा जा सकता है।

बिटकॉइन माइनिंग कैसे करें?

बिटकॉइन माइनिंग एक बहुत ही तकनीकी प्रक्रिया है और इसके लिए बड़ी मात्रा में प्रोसेसिंग पावर की आवश्यकता होती है। दरअसल, कंप्यूटर की प्रोसेसिंग पावर जितनी अधिक होगी, माइनिंग की गति उतनी ही बेहतर होगी। इसलिए, अगर किसी का कंप्यूटर धीमा चलता है, तो वह पर्याप्त बिटकॉइन उत्पन्न नहीं कर पाएगा।

भंडारण (Storage) बेहतर है

बिटकॉइन माइन करने के लिए किसी भी सामान्य कंप्यूटर में सीपीयू, मदरबोर्ड, रैम और एक्सटर्नल स्टोरेज होना चाहिए। हालांकि, इसमें सबसे बड़ी जरूरत ग्राफिक्स प्रोसेसिंग यूनिट यानी वीडियो कार्ड की है। बहुत उच्च प्रदर्शन वाला वीडियो कार्ड होने से बिटकॉइन माइनिंग आसान हो जाती है।

कंप्यूटिंग क्षमता और शक्ति?

बिटकॉइन की माइनिंग (Bitcoin Mining) बेहद खास हार्डवेयर ASIC के जरिए की जाती है, जिसका पूरा नाम एप्लीकेशन स्पेसिफिक इंटीग्रेटेड सर्किट है। यह कंप्यूटर की समस्याओं को दूर करने के साथ-साथ प्रोसेसिंग पावर में सुधार करता है। ऐसे में GPU और ASIC से लैस कंप्यूटर सिस्टम की कीमत काफी ज्यादा होती है। बिटकॉइन माइनिंग के लिए आपके पास एक अच्छी स्पीड वाला इंटरनेट सिस्टम भी होना चाहिए।

बिजली की अधिक खपत

खनन मशीनें भी बहुत अधिक बिजली की खपत करती हैं। कहा जाता है कि बिटकॉइन के बड़े खनिक चीन में काम करते हैं, जहां बिजली विकसित देशों की तुलना में काफी सस्ती है। साथ ही सिस्टम को ओवरहीटिंग से बचाने के लिए यानी कूल रखने के लिए कूलिंग की भी जरूरत होती है।

जो लोग डिजिटल सिक्के चाहते हैं उनके लिए बिटकॉइन एक शानदार अवसर है। लेकिन इसके लिए पहली आवश्यकता कंप्यूटिंग का एक बहुत मजबूत नेटवर्क होना है।

Conclusion

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को Bitcoin Mining: बिटकॉइन कैसे तैयार किया जाता है? से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में भी पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें जो लोग अपनी लम्बाई बढ़ाना चाहतें हैं, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Also Read

Leave a Comment

x