संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं कविता | माखनलाल चतुर्वेदी

संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं कविता अर्थ सहित pdf, संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं कविता का प्रश्न उत्तर, संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं कविता का सारांश, संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं किसकी रचना है, माखनलाल चतुर्वेदी की कविता संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं, [Sandhya ke bas do bol suhane lagte hain in hindi, Sandhya ke bas do bol suhane lagte hain poem, Sandhya ke bas do bol suhane lagte hain poet, Sandhya ke bas do bol suhane lagte hain question answer, Sandhya ke bas do bol suhane lagte hain summary]

संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं कविता | माखनलाल चतुर्वेदी
संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं कविता | माखनलाल चतुर्वेदी

संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं कविता

संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं
सूरज की सौ-सौ बात नहीं भाती मुझको

बोल-बोल में बोल उठी मन की चिड़िया
नभ के ऊंचे पर उड़ जाना है भला-भला।
पंखों की सर-सर कि पवन की सन-सन पर
चढ़ता हो या सूरज होवे ढला-ढला।।

यह भी पढ़े – पुष्प की अभिलाषा कविता अर्थ सहित

यह उड़ान, इस बैरिन की मनमानी पर
मैं निहाल, गति स्र्द्ध नहीं भाती मुझको।
संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं
सूरज की सौ-सौ बात नहीं भाती मुझको।।

सूरज का संदेश उषा से सुन-सुनकर
गुन-गुनकर, घोंसले सजीव हुए सत्वर।
छोटे-मोटे, सब पंख प्रयाण-प्रवीण हुए
अपने बूते आ गये गगन में उतर-उतर।।

यह भी पढ़े – मम्मी की रोटी गोल गोल कविता

ये कलरव कोमल कण्ठ सुहाने लगते हैं
वेदों की झंझावात नहीं भाती मुझको।
संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं
सूरज की सौ-सौ बात नहीं भाती मुझको।।

जीवन के अरमानों के काफिले कहीं, ज्यों
आंखों के आंगन से जी घर पहुंच गये।
बरसों से दबे पुराने, उठ जी उठे उधर
सब लगने लगे कि हैं सब ये बस नये-नये।।

जूएं की हारों से ये मीठे लगते हैं
प्राणों की सौ सौगा़त नहीं भाती मुझको।
संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं
सूरज की सौ-सौ बात नहीं भाती मुझको।।

यह भी पढ़े – लालाजी ने केला खाया कविता

ऊषा-संध्या दोनों में लाली होती है
बकवासनि प्रिय किसकी घरवाली होती है।
तारे ओढ़े जब रात सुहानी आती है
योगी की निस्पृह अटल कहानी आती है।।

नीड़ों को लौटे ही भाते हैं मुझे बहुत
नीड़ो की दुश्मन घात नहीं भाती मुझको।
संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं
सूरज की सौ-सौ बात नहीं भाती मुझको।।

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं कविता (Sandhya ke bas do bol suhane lagte hain) से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में भी पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें जो लोग संध्या के बस दो बोल सुहाने लगते हैं कविता जानना चाहतें हैं, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Leave a Comment

x
10 Facts You Didn’t Know About Mandy Rose (Wrestler) 10 Facts You Didn’t Know About Kehlani (Singer) 10 Facts You Didn’t Know About Jenna Ortega (Actress) 10 Facts You Didn’t Know About Emily Blunt (Actress) 10 Facts You Didn’t Know About Maria Telkes