Piles Treatment in Hindi | बवासीर के मस्से सुखाने के उपाय

Piles Treatment in Hindi : आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों के पास समय पर भोजन नहीं है और कम पानी पीते हैं, नियमित रूप से व्यायाम नहीं करते हैं और एक जगह पर घंटों बैठे रहते हैं, कब्ज जैसी आदतों के कारण लोग कई बीमारियों से ग्रस्त हो जाते हैं। पिछले कुछ समय से लोगों में बवासीर अधिक आम है। इसका मुख्य कारण लोग घंटों कंप्यूटर के सामने बैठे रहते हैं और जंकफूड आदि का सेवन करते हैं।

बवासीर के मस्से सुखाने के उपाय

पाइल्स का मस्सा एक बहुत ही दर्दनाक और पीड़ादायक बीमारी है जिसमें रोगी अत्यधिक दर्द के कारण बहुत परेशान और दुखी हो जाता है। पाइल्स मौसा के दौरान, गुदा के अंदर और गुदा के आसपास सूजन होती है। गुदा बड़ी आंत के नलिका का अंतिम भाग होता है। आपको बता दें कि यह लगभग 4 सेमी लंबा है जो गुदा नहर के निचले छोर पर बाहर की ओर खुलता है।

आपको बता दें कि इसके जरिए मल को निष्कासित किया जाता है। मुख्य रूप से 2 प्रकार के ढेर होते हैं – आंतरिक और बाहरी। आंतरिक बवासीर वे हैं जो गुदा नहर के अंदर 2-3 सेमी ऊपर हैं। आंतरिक बवासीर आमतौर पर दर्द रहित होते हैं, क्योंकि ऊपरी गुदा नहर में कोई दर्द तंत्रिका फाइबर नहीं होता है। आइए इस लेख के माध्यम से पाइल्स मौसा के उपचार पर प्रकाश डालें।

बवासीर के मस्सों को कैसे दूर करें

इसे हटाने के लिए हम एक और काम कर सकते हैं, इसके लिए पहले सेहुंड के दूध में थोड़ी सी हल्दी मिलाकर और इसकी एक बूंद मस्से पर लगाने से यह अपने आप गिर जाएगी।

20 ग्राम नीलाथोथा और 40 ग्राम अफीम को पीसकर 40 ग्राम सरसों के तेल में पकाएं। इस मिश्रण को मस्सों पर सुबह-शाम रुई की मदद से लगाने से कुछ ही दिनों में बवासीर के मस्से सूखने लगेंगे।

मुलायम नीम के पत्तों को घी में भूनें और उसमें थोड़ा सा कपूर मिलाकर उसका आटा बनाएं। अब हर दिन गुदा पर 1 गोली बांधने से मस्से नष्ट हो जाते हैं। मोल्स से छुटकारा पाने के लिए मिट्टी के पत्तों और ड्रमस्टिक की पत्तियों का मलहम बनाकर बवासीर के मस्सों को हटाया जाता है। करेले के रस में नीम का तेल और हल्दी मिलाकर मस्सों पर लगाएं। इस रामबाण उपाय को नियमित रूप से करने से गुदा के मस्से जड़ से हट जाते हैं।

बवासीर के मस्से का इलाज के लिए बदलें अपना खानपान

ज्यादातर मामलों में, बवासीर बिना किसी उपचार के ठीक हो जाता है। कई रोगियों ने देखा है कि उपचार से दर्द और खुजली से काफी हद तक राहत मिलती है। कब्ज के कारण, एक आंत्र आंदोलन को पारित करना बहुत कठिन है, जो बवासीर का कारण बनता है। आहार बदलने से मल नियमित और नरम हो सकता है। आपको अपने भोजन में अधिक से अधिक फाइबर शामिल करना चाहिए, जैसे कि फल और सब्जियां, और नाश्ते में अनाज के बजाय चोकर को शामिल करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: Height Kaise Badhaye – हाइट कैसे बढ़ाये पूरी जानकारी हिन्दी में

इसके अलावा, पानी सबसे उपयुक्त पेय है और रोगी को जितना संभव हो उतना पानी का सेवन करने की सलाह दी जाती है। कैफीन में उच्च खाद्य पदार्थों के सेवन को सीमित करें। यदि रोगी मोटापे से पीड़ित है, तो वजन कम करके बवासीर की तीव्रता को रोका जा सकता है। कुछ सरल चीजों को अपनाकर आप बवासीर से अपनी रक्षा कर सकते हैं, जैसे कि मल त्याग के दौरान बहुत अधिक तनाव न करें, जुलाब और व्यायाम से दूर रहें।

बवासीर के मस्से सुखाने के घरेलू उपाय

  • 2 से 5 ग्राम छोटी हरड़ का चूर्ण नियमित रूप से लेने और बवासीर पर अरंडी का तेल लगाने से भी बहुत लाभ होता है।
  • बड़ी इंद्रप्रस्थ की जड़ को छाया में सुखाकर या कनेर की जड़ को पानी में घिसकर बवासीर पर लगाने से लाभ होता है।
  • नीम का तेल बवासीर के मस्सों पर लगाने और 4-5 बूँद रोज पीने से आराम मिलता है।
  • छाछ या पतले दही में काला नमक और जीरा पाउडर डालकर पीने से भी बवासीर से राहत मिलती है।
  • आप सूखे अदरक पाउडर, सेंधा नमक, पिसा हुआ जीरा और थोड़ी सी हींग डालकर मक्खन पाउडर भी खा सकते हैं। ऐसा करने से आप देखेंगे कि आप मौसा से छुटकारा पा रहे हैं।

Piles Treatment के लिए अन्य दवाएं

  1. कुछ दवाओं के उपयोग से मलाशय के आसपास लालिमा और सूजन से राहत मिलती है। इसमें विच हेज़ल, हाइड्रोकार्टिसोन जैसे सक्रिय तत्व होते हैं जो खुजली और दर्द में राहत देते हैं। दवाओं में, बवासीर ठीक नहीं होता है, केवल लक्षण ठीक हो जाते हैं। सात दिनों तक लगातार उपयोग करने के बाद, उपयोग न करें – लंबे समय तक इसका उपयोग करने से मलाशय के साथ समस्या हो सकती है और इसके आसपास की त्वचा पतली हो सकती है। डॉक्टर की सलाह के बिना एक साथ दो या अधिक दवाओं का उपयोग न करें।
  2. कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स: – यह जलन और दर्द को कम करने में मदद करता है।
  3. दर्द निवारक दवाएं: – पेरासिटामोल जैसी दर्द निवारक दवाओं का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।
  4. बैंडिंग: – डॉक्टर मलाशय के अंदर, बवासीर के चारों ओर इलास्टिक बैंड लगाएगा, जिससे रक्त की आपूर्ति बंद हो जाएगी और कुछ दिनों के बाद, बवासीर बाहर आ जाएगा। यह उपचार बवासीर के ग्रेड 2 और 3 के लिए काम करेगा।

Piles Treatment में मस्से सूखने की सर्जरी

1. स्क्लेरोथेरेपी: – इसमें एक दवा दी जाती है, जो बवासीर को कम करती है और फिर सूख जाती है। यह ग्रेड 2 और 3 में बवासीर के प्रभाव को दर्शाता है, यह बैंडिंग का एक विकल्प है।

2. इन्फ्रारेड जमावट: – इसे इंफ्रारेड लाइट जमावट भी कहा जाता है। इसका उपयोग बवासीर के ग्रेड 1 और 2 में किया जाता है। यह एक प्रकार का उपकरण है, जिसके द्वारा बवासीर के मस्सों का लेप प्रकाश द्वारा जलाया जाता है।

3. सामान्य सर्जरी: – इसका उपयोग बड़े बवासीर में या ग्रेड 3 या 4 बवासीर में किया जाता है। अधिकांश सर्जरी तब की जाती हैं जब अन्य प्रक्रियाओं से कोई आराम नहीं होता है। कभी-कभी सर्जरी एक आउट पेशेंट प्रक्रिया की तरह की जाती है, जिसमें सर्जरी की प्रक्रिया पूरी होने के बाद मरीज घर जा सकता है।

यह भी जानें – Appendix क्या है? Appendix Pain दूर करने के लिए घरेलू उपाय

4. रक्तस्त्राव:- यह कई तरह से किया जाता है। स्थानीय संवेदनाहारी, बेहोश करने की क्रिया, रीढ़ की हड्डी में संवेदनाहारी और सामान्य संवेदनाहारी का उपयोग किया जा सकता है। इस तरह की सर्जरी बवासीर के उन्मूलन में प्रभावी है, लेकिन इसमें जटिलताओं का खतरा होता है, जैसे मल और मूत्र पथ के संक्रमण को पारित करने में कठिनाई।

5. बवासीर से मरोड़: – बवासीर के ऊतकों की ओर रक्तस्राव बंद हो जाता है। यह प्रक्रिया हेमोराहाइडेक्टोमी की तुलना में कम दर्दनाक है। लेकिन बवासीर की पुनरावृत्ति और मलाशय की उन्नति का खतरा बढ़ जाता है।

Conclusion

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को Piles Treatment in Hindi | बवासीर के मस्से सुखाने के उपाय से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में भी पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें जो लोग अपनी लम्बाई बढ़ाना चाहतें हैं, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Leave a Comment

x