Hast Rekha Gyan in hindi | हस्त रेखा का ज्ञान

Hast Rekha Gyan in hindi: हस्त रेखा का ज्योतिष में बहुत महत्व है। ऐसा माना जाता है कि हस्तरेखा विज्ञान की मदद से किसी व्यक्ति के भविष्य का अनुमान लगाया जा सकता है। हस्तरेखा ज्योतिष में, किसी व्यक्ति के हाथ के आकार, हथेली के आकार आदि के अध्ययन से उस व्यक्ति के भविष्य के बारे में जानकारी का अनुमान लगाया जाता है, इस ज्योतिष से संबंधित विशेष जानकारी यहाँ दी जा रही है।

Hast Rekha Gyan in hindi

हथेली की रेखा (Hast Rekha) में मुख्य रेखाएं जीवन रेखा, हृदय रेखा और शीर्ष रेखा होती हैं। इन तीन मुख्य रेखाओं की मदद से किसी व्यक्ति के जीवन के बारे में कई तरह की जानकारी प्राप्त की जाती है। यहाँ इन तीन पंक्तियों को संक्षिप्त किया जा रहा है।

1. जीवन रेखा: यह रेखा जीवन रेखा शब्द से प्रेरित है। जीवन रेखा हाथ के अंगूठे और तर्जनी के बीच से शुरू होकर हथेली के आधार तक होती है। जीवन रेखा जितनी लंबी और साफ होती है, व्यक्ति की उम्र उतनी लंबी होती है। यदि जीवन रेखा अस्पष्ट या बीच में टूटी हुई है, तो यह उसे युवा आयु या स्वास्थ्य के नुकसान की भावना देता है। यदि जीवन रेखा पूरी स्पष्टता के साथ हथेली के आधार तक पहुँचती है, तो व्यक्ति स्वस्थ जीवन व्यतीत करता है, जबकि अस्पष्ट और टूटी रेखा आयु का आभास कराती है। नीचे की छवि में जीवन रेखा की स्थिति देखें।

2. हृदय रेखा: यह रेखा तर्जनी से सबसे छोटी उंगली के मध्य तक होती है। यदि किसी व्यक्ति की हृदय रेखा लंबी है, तो वह व्यक्ति खुले दिल का होता है। यदि यह रेखा बहुत लंबी है, तो यह रेखा हथेली के दोनों किनारों तक पहुँचती है। ऐसे व्यक्ति अपने जीवन साथी पर निर्भर रहने वाले होते हैं। यदि यह रेखा छोटी है, तो व्यक्ति ‘आत्म-केंद्रित’ है, अर्थात यदि वह आत्म-केंद्रित है, और यदि यह रेखा सीधी और छोटी है, तो इसका मतलब है कि वह व्यक्ति रोमांटिक स्वभाव का नहीं है।

3. मस्तिष्क रेखा: यह रेखा तर्जनी के नीचे और जीवन रेखा के शुरुआती बिंदु से निकलती है और सबसे छोटी छोटी उंगली कनिष्क के नीचे हथेली तक जाती है, किसी व्यक्ति के हाथ में यह रेखा कनिष्क पहुंचने से पहले समाप्त हो जाती है। मस्तिष्क को रेखा कहा जाता है। मस्तिष्क रेखा जितनी लंबी होगी, व्यक्ति का मानसिक संतुलन उतना ही बेहतर होगा। ऐसे लोग किस्मत से ज्यादा मेहनत पर विश्वास करते हैं। इन लोगों की स्मरण शक्ति बहुत अच्छी होती है और वे प्रत्येक कार्य सोच-समझकर करते हैं। इस प्रकार के लोगों में कुछ सीखने की हमेशा इच्छा होती है। जबकि इसके विपरीत, छोटी मस्तिष्क रेखा वाले लोग जल्दबाजी में रहते हैं, कर्म से अधिक भाग्य पर विश्वास करते हैं और जल्दबाजी में निर्णय लेते हैं। जिसका उन्हें बाद में पछतावा है।

यह भी पढ़ें: पालक के फायदे व नुकसान | Benefits and Side Effects of Spinach in hindi

4. भाग्य रेखा: यह रेखा मध्य और अनामिका से निकलती है और हथेली तक जाती है। यह रेखा हर व्यक्ति के हाथ में नहीं पाई जाती है। भाग्य रेखा जितनी साफ होती है, व्यक्ति का जीवन उतना ही आसान होता है, जबकि इसके विपरीत, जिस व्यक्ति के हाथ में यह रेखा अस्पष्ट या टूटी-फूटी हो, वह जीवन में बहुत संघर्ष करता है और जिस व्यक्ति के हाथों में यह रेखा नहीं होती है। इसका अर्थ है कि इस प्रकार का व्यक्ति कर्मशील, मेहनती होता है और जीवन में संघर्षों से घिरा रहता है। भाग्य रेखा की व्याख्या मस्तिष्क रेखा पर भी निर्भर करती है।

5. सूर्य रेखा: यह रेखा सभी के हाथ में नहीं होती है। यह रेखा चंद्र पर्वत से शुरू होती है और तीसरी उंगली अनामिका तक जाती है। जिस व्यक्ति के हाथ में यह रेखा होती है वह निडर, स्वाभिमानी, दृढ़ इच्छाशक्ति वाला होता है। इस प्रकार का व्यक्ति जीवन में कभी हार नहीं मानता और नेतृत्व प्रिय होता है।

6. स्वास्थ्य रेखा: यह रेखा सबसे छोटी उंगली कनिष्क से शुरू होकर हथेली के नीचे तक जाती है। यह रेखा व्यक्ति के स्वास्थ्य का संकेत है।

7. शुक्र मुद्रा: यह रेखा कनिष्क और अनामिका के मध्य से चंद्र उंगली और अनामिका के बीच से शुरू होती है। यह रेखा आमतौर पर ऐसे लोगों में पाई जाती है जो शानदार जीवन जीते हैं। इस प्रकार के लोग कामुक, महंगे और भौतिकवादी होते हैं। शुक्र वलय रेखा की स्थिति जानने के लिए, नीचे दी गई छवि में देखें।

हाथ की हथेली में माइनर रेखाएं (Minors Lines in Palm of Hand)

1. सूर्य रेखा: यह Hast Rekha हर किसी के हाथ में नहीं होती, जिस किसी के भी हाथ में यह रेखा होती है, माना जाता है कि यह रेखा व्यक्ति के जीवन की सफलता का प्रतिनिधित्व करती है। जिस व्यक्ति के हाथ में यह रेखा होती है, वह व्यक्ति रचनात्मक, आत्मविश्वासी होता है और अपनी कार्य योजना पर अमल करता है। हालाँकि, यदि कोई दूसरी रेखा इस रेखा पर आती है, तो यह बीमारी या विफलता का समय दर्शाती है।

2. ब्रेसलेट लाइन: ये रेखाएं किसी व्यक्ति की कलाई पर होती हैं। यदि यह रेखा कलाई पर स्पष्ट रूप से दिखाई देती है, तो व्यक्ति का जीवन स्वास्थ्य से भरा होता है। यदि किसी व्यक्ति के हाथ में यह रेखा टूटी हुई है, तो इससे यह ज्ञात होता है कि व्यक्ति अपने स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान नहीं देता है। यदि किसी व्यक्ति के हाथ में दूसरी कंगन रेखा स्पष्ट रूप से है, तो व्यक्ति का जीवन आर्थिक रूप से सफल होता है, और व्यक्ति अपने जीवन में सभी प्रकार के सुखों का उपभोग करता है। यदि व्यक्ति की कलाई की तीसरी ब्रेसलेट लाइन साफ ​​है, तो व्यक्ति को समाज में बहुत सम्मानजनक तरीके से स्थापित किया जाता है।

3. बच्चों की रेखाएं: ये रेखाएं आमतौर पर हाथ की सबसे छोटी उंगली के नीचे होती हैं। इस रेखा की मदद से यह समझा जाता है कि कोई व्यक्ति अपने बच्चों के प्रति कितना अधिक जिम्मेदार होगा। इस रेखा की मदद से आने वाले बच्चे के स्वास्थ्य का भी पता चल जाता है।

4. भाग्य रेखा: यह रेखा हथेली (Hast Rekha) के मध्य में स्थित होती है। इस रेखा की मदद से किसी भी व्यक्ति का भाग्य जाना जाता है। इसकी मदद से, किसी भी व्यक्ति के जीवन में आने वाली परेशानियों का अनुमान लगाया जा सकता है। यदि यह रेखा सरल रूप में है, तो व्यक्ति का भाग्य संतुष्ट है, लेकिन यदि यह रेखा टूटी हुई है, तो यह दर्शाता है कि व्यक्ति का भाग्य काफी कठिन है।

5. बृहस्पति रेखा: यह रेखा भी बहुत महत्वपूर्ण है। इस रेखा की मदद से किसी व्यक्ति के व्यवहार को जाना जा सकता है। आम तौर पर जिस व्यक्ति के हाथ में यह रेखा होती है, वह ऐसे स्वभाव का होता है।

6. स्वास्थ्य रेखा: यह Hast Rekha की सबसे छोटी उंगली के नीचे से शुरू होती है और नीचे जाती है। इसे अक्सर ‘लाइन ऑफ लीवर’ के रूप में भी जाना जाता है। यह रेखा किसी व्यक्ति के तंत्रिका तंत्र से संबंधित जानकारी देती है। इससे पता चलता है कि व्यक्ति का स्वास्थ्य कैसा होगा।

यह भी पढ़ें: Height Kaise Badhaye – हाइट कैसे बढ़ाये पूरी जानकारी हिन्दी में

7. चिकनी रेखा: यह रेखा सबसे छोटी उंगली से शुरू होती है और फिर हथेली के किनारे की ओर मुड़ जाती है। यह रेखा आमतौर पर बहुत हल्की होती है। यह रेखा धारण करने वाला व्यक्ति आमतौर पर बहुत संवेदनशील होता है। ऐसे लोग भीड़ आदि से बहुत डरते हैं।

8. प्रेम रेखा: यह Hast Rekha सबसे छोटी उंगली के नीचे स्थित होती है। यह रेखा एक या एक से अधिक लोगों के हाथों में हो सकती है। यदि ये रेखाएं गहरी और लंबी हैं, तो इसका मतलब है कि व्यक्ति रिश्ते को महत्व देता है, लेकिन यदि यह रेखा छोटी और हल्की है, तो इसका मतलब है कि व्यक्ति अपने विवाह संबंध को बहुत लंबे समय तक जारी नहीं रख सकता है।

7. सिमीयन रेखा: यह रेखा बहुत कम मनुष्यों के हाथ में होती है। जिस व्यक्ति के हाथ में यह रेखा होती है वह अक्सर जिद्दी किस्म का होता है। ऐसे लोग या तो अपने दिल से या अपने दिमाग से संचालित होते हैं, या दुनिया को गोरे या काले के रूप में देखते हैं। ऐसे व्यक्ति आमतौर पर बहुत तनाव में रहते हैं और व्यक्तिगत रूप से बहुत सारी चीजें लेते हैं। तनाव दूर करने के उपाय यहां पढ़ें।

8. रिंग ऑफ़ सोलोमन: इसे बृहस्पति वलय भी कहा जाता है। यह रेखा तर्जनी के नीचे होती है। जो व्यक्ति इस रेखा को धारण करता है, वह नेतृत्व करने की क्षमता रखता है और अक्सर किसी विशेष स्थिति में होता है। ऐसे लोग बहुत बुद्धिमान और दार्शनिक होते हैं।

9. रिंग ऑफ सैटर्न: यह Hast Rekha अनामिका के नीचे आती है। यह आमतौर पर किसी भी व्यक्ति के हाथों में नहीं पाया जाता है। इस पंक्ति में पाया गया व्यक्ति दुखी स्वभाव का है और आवश्यकता से अधिक गंभीर व्यक्तित्व है।

10. रिंग ऑफ अपोलो: यह रेखा अनामिका के बाद उंगली के नीचे होती है। यह रेखा व्यक्ति को रचनात्मक बनाती है। हालांकि किसी व्यक्ति के पास रहने से सकारात्मक दृष्टिकोण का अभाव है, लेकिन व्यक्ति को निराश होने की कोई आवश्यकता नहीं है।

Conclusion

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को Hast Rekha Gyan in hindi | हस्त रेखा का ज्ञान से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में भी पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें जो लोग अपनी लम्बाई बढ़ाना चाहतें हैं, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

1 thought on “Hast Rekha Gyan in hindi | हस्त रेखा का ज्ञान”

Leave a Comment

x