Aatm Nirbhar Bharat Essay in Hindi – आत्मनिर्भर भारत पर निबंध हिंदी में

आत्मनिर्भर भारत पर निबंध (Aatm Nirbhar Bharat Essay in Hindi) : यदि आप लोग भी आत्मनिर्भर भारत पर निबंध पर निबन्ध लिखना चाहते हैं, और आप लोगों को पता नहीं है कि हम आत्मनिर्भर भारत पर निबंध कैसे लिखें। इस लेख में हमें आत्मनिर्भर भारत पर निबंध (Aatm Nirbhar Bharat Essay in Hindi) बताया है आप इसे पूरा जरूर पढ़ें।

विश्व के प्राचीन देशों में भारत का विशेष स्थान है। यहां की संस्कृति, रंग और कला को देखकर हम यह साबित कर सकते हैं कि भारत पहले से ही आत्मनिर्भर रहा है। अगर हम आत्मनिर्भर का सही अर्थ जानते हैं, तो इसका मतलब केवल अपने कौशल पर खुद को विकसित और मजबूत करना है, चाहे वह छोटे स्तर से हो या बड़े पैमाने पर।

यदि हम अपने छोटे स्तर से ही अपने हुनर ​​के दम पर खुद को विकसित करते हैं तो इसके साथ ही आर्थिक रूप से भी कई तरह से हमारे देश के विकास में हमारी भूमिका होगी।

आत्मनिर्भर का अर्थ है कि हम अपने घरों में स्वयं कोई भी सामग्री तैयार कर सकते हैं और उस सामग्री से उचित मूल्य प्राप्त कर सकते हैं और उससे अपनी आय बनाए रख सकते हैं। कच्चे माल से सामग्री का निर्माण करना और जहाँ इसकी अधिक आवश्यकता होती है, वहाँ उसकी आपूर्ति करना। जैसे पास के बाजार में या किसी छोटे से गांव, शहर में।

सीधे शब्दों में कहें तो स्थानीय सामग्रियों का उपयोग करना आत्मनिर्भरता का एक रूप है। आत्मनिर्भर भारत के उदाहरणों में मत्स्य पालन, कुटीर उद्योग द्वारा प्राप्त सामग्री, खेती आदि शामिल हैं। इन सभी की मदद से हम इसे अपने शहर से छोटे शहरों और गांवों में ले जाकर राष्ट्र के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं।

आत्मनिर्भर भारत पर निबंध (Aatm Nirbhar Bharat Essay in Hindi)

प्रस्तावना (Introduction)

व्यक्ति का सबसे बड़ा गुण आत्मनिर्भरता है। आत्मनिर्भर व्यक्ति स्वयं के लिए सहारा बन सकता है। अगर कोई व्यक्ति आत्मनिर्भर है, तो उसे किसी और की मदद की जरूरत नहीं है। हमारा भारत देश दुनिया की प्राचीन संस्कृतियों में से एक रहा है और इस देश की संस्कृति, रंग और शैली को देखकर हम कह सकते हैं कि भारत पहले से ही काफी आत्मनिर्भर है। आत्मनिर्भरता का सही अर्थ है स्वयं के कौशल से स्वयं का विकास करना। हर व्यक्ति चाहता है कि वह आत्मनिर्भर बने, चाहे वह अपने जीवन के तरीके से हो या अपने तरीके से।

आत्मनिर्भर भारत का अर्थ

आत्मनिर्भर भारत का मतलब है खुद पर निर्भर रहना यानी खुद को किसी और पर निर्भर न बनाना। कोरोना महामारी के दौरान लॉकडाउन ने दुनिया में हर किसी के लिए खाने-पीने और रहने की समस्या पैदा कर दी है। महामारी के इस संकट को देखते हुए भारत को आत्मनिर्भर होने की जरूरत है। भारत प्राचीन काल से ही आत्मनिर्भर रहा है और इस कड़ी में आत्मनिर्भर बनकर आप अपने परिवार सहित अपने देश को फिर से प्रगति के पथ पर लाने में मदद कर सकते हैं।

आत्मनिर्भरता का अर्थ

आत्मनिर्भरता का अर्थ है कि किसी व्यक्ति विशेष को अपने दम पर जीना चाहिए, न कि किसी और की मदद से। इसे एक उदाहरण से समझने के लिए, मान लीजिए आप अपने घर में अकेले रहते हैं और आपको अपने खाने-पीने के साथ-साथ अपनी सुविधाओं के लिए भी रिश्तेदारों पर निर्भर रहना पड़ता है, तो रिश्तेदार आपको या तो टिफिन के जरिए या किसी अन्य व्यक्ति द्वारा खाना पहुंचाते हैं। और इसकी मदद से आप तक पहुंचता है।

इसके विपरीत अगर आप अपने खाने के लिए मेहनत करते हैं और अपना खाना खुद बनाते हैं, तो आप आत्मनिर्भर हो गए हैं। अगर हम इसे सरल भाषा में समझ लें तो इसका मतलब है कि हमें किसी और पर भरोसा नहीं करना चाहिए और खुद कुछ काम करना चाहिए जिससे हमारा जीवन यापन हो सके।

आत्मनिर्भर भारत बनाने का अभियान

प्रधानमंत्री ने देश की जनता से अपील की है कि कोरोना काल में आपदा को अवसर में बदलें। संकट की इस घड़ी में सभी से आत्मनिर्भर बनने और राष्ट्र की सेवा और प्रगति में योगदान देने की अपील की गई है। देश आत्मनिर्भर होगा तभी हम इस संकट की घड़ी में देश को प्रगति के लिए आगे बढ़ा सकते हैं।

भारत प्राचीन काल से ही संसाधनों का देश रहा है। आजादी के बाद भारत की गरीबी और भूख को देखते हुए महात्मा गांधी ने देश को आत्मनिर्भर बनाने का सपना देखा था, लेकिन उस स्थिति में सुविधाओं के अभाव में यह पूरी तरह से संभव नहीं हो पाया, लेकिन जहां तक ​​संभव हो लोगों ने खुद को आत्मनिर्भर बनाया।

महामारी के इस संकट काल में प्रधानमंत्री ने महात्मा गांधी को आत्मनिर्भरता का सपना याद दिलाते हुए फिर से अपील की है. भारत में संसाधनों की कोई कमी नहीं है और अब भारत कुछ भी निर्माण करने में सक्षम है, इसके लिए उसे किसी और की मदद लेने की जरूरत नहीं है।

आत्मनिर्भर भारत बनने का मतलब है कि हमारे देश को हर क्षेत्र में खुद पर निर्भर रहना होगा। भारत को सब कुछ देश में ही बनाना होगा। इस अभियान का मुख्य उद्देश्य भारत के संसाधनों से बने माल का भारत में ही उपयोग करना है। इस अभियान का मुख्य उद्देश्य आत्मनिर्भर भारत से हमारे उद्योगों को बेहतर बनाना और युवाओं को रोजगार, गरीबों को पर्याप्त भोजन उपलब्ध कराना है।

आत्मनिर्भर भारत का सपना

भारत को आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र दामोदर दास मोदी ने 12 मई 2020 को इस अभियान की घोषणा की थी, जिसमें उन्होंने देश को संबोधित करते हुए कहा था कि यह भारत की अर्थव्यवस्था को सुधारने की एक अच्छी पहल है। . इस अभियान के तहत आने वाले कुछ वर्षों में अधिकांश वस्तुओं का निर्माण भारत में किया जाएगा। इसी वजह से इस अभियान का नाम आत्मनिर्भर रखा गया है.

इस अभियान के तहत उन सभी विदेशी निर्भरता को कम करना है, जिसके कारण भारत का अधिकांश व्यापार अन्य पड़ोसी देशों पर निर्भर है। इसमें बाहरी वस्तुओं पर निर्भर हुए बिना अपने देश में ही बाहर अपने स्तर पर अच्छी गुणवत्ता वाले उत्पाद तैयार करने के इस अभियान में शामिल है।

आज की बात करें तो हमारे दैनिक जीवन में कई ऐसी चीजें हैं, जिनकी आपूर्ति हमारा पड़ोसी देश चीन हमें करता है। इस श्रेणी में चीन के अलावा अमेरिका, कोरिया, सऊदी अरब भी शामिल हैं जो हमारे सामान की मांग को पूरा करते हैं। अगर हमें भारत के विकास के पंखों को मजबूत करना है, तो हमें पहले आत्मनिर्भर बनना होगा, तभी हमारा भारत विकासशील से विकसित देश बनेगा। इस अभियान के तहत हमारी जरूरी और जरूरी चीजों का निर्माण हमारे देश में ही होगा तभी हमारा देश आत्मनिर्भर भारत कहलाएगा।

आत्मनिर्भर के रूप में भारत

हालाँकि, आत्मनिर्भरता शब्द नया नहीं है। ग्रामीण क्षेत्रों में कुटीर उद्योग द्वारा बनाए गए माल और उसकी आय से आने वाले धन से परिवार का खर्च चलाने के लिए स्वावलंबन कहा जाता है। कुटीर उद्योग या घर का बना सामान पास के बाजारों में ही बेचा जाता है, अगर किसी की सामग्री अच्छी गुणवत्ता की है, तो उसकी मांग अन्य जगहों पर भी है।

आम भाषा में जो सामान घरों में हमारे जीवन के उपयोग के लिए कच्चे माल से बनाया जाता है, उसे हम स्थानीय सामग्री कहते हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि यह आत्मनिर्भरता का एक रूप है। कुटीर उद्योग, मत्स्य पालन आदि आत्मनिर्भर भारत के कुछ उदाहरण हैं।

आत्मनिर्भरता की श्रेणी में कृषि, मत्स्य पालन, आंगनबाडी में बनने वाली सामग्री आदि कई प्रकार के कार्य हैं जो हमें आत्मनिर्भरता की श्रेणी में लाते हैं। इस तरह अगर हम अपने परिवार को गांव से गांव, गांव से जिले तक देखें तो हम इस तरह से पूरे देश के लिए अपना योगदान देते हैं। इस तरह हम भारत को एक आत्मनिर्भर भारत के रूप में देख सकते हैं।

आत्मनिर्भर भारत के पाँच स्तंभ

आत्मनिर्भर भारत पाँच स्तंभों पर खड़ा होगा:

  • अर्थव्यवस्था- जो वृद्धिशील परिवर्तन के स्थान पर बड़ी उछाल पर आधारित हो।
  • अवसंरचना- ऐसी अवसंरचना जो आधुनिक भारत की पहचान बने।
  • प्रौद्योगिकी-  21वीं सदी प्रौद्योगिकी संचालित व्यवस्था पर आधारित प्रणाली।
  • गतिशील जनसांख्यिकी- जो आत्मनिर्भर भारत के लिये ऊर्जा का स्रोत है।
  • मांग- भारत की मांग और आपूर्ति श्रृंखला की पूरी क्षमता का उपयोग किया जाना चाहिये।

आत्मनिर्भर बनने के फायदे

अगर भारत आत्मनिर्भर बनता है तो उस स्थिति मे भारत को कई तरह के फायदे होंगे जो भारत को एक नई पहचान दिलाने मे मदद करेंगे।

आत्मनिर्भर बनने के बाद आपको किसी के सामने हाथ नहीं फैलाना होगा: भारत में हमारे दैनिक जीवन में इस्तेमाल होने वाली चीजें चीन या अन्य पड़ोसी देशों से आयात की जाती हैं। अगर भारत का आत्मनिर्भर बनने का सपना पूरा हुआ तो भारत को किसी और देश के सामने हाथ नहीं फैलाना पड़ेगा और भारत खुद ही ऐसी वस्तुओं का निर्माण शुरू कर देगा।

स्वदेशी उद्योग में वृद्धि: भारत के आत्मनिर्भर होने से भारत में कई प्रकार के सामानों का निर्माण होगा और भारत में उद्योग भी विकसित होंगे। भारत उन सामानों को विदेश भी भेज सकेगा और इससे भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी।

रोजगार के अवसर: आत्मनिर्भर से भारत में घरेलू और घरेलू उद्योगों में वृद्धि होगी, जिससे भारत में रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे और देश के कुशल और सक्षम लोगों को भी इससे रोजगार मिलेगा। इससे देश की आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा।

गरीबी से मुक्ति मिलेगी: देश में आत्मनिर्भर होने से उद्योगों के साथ-साथ युवाओं को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे। इससे देश में गरीबी भी कम होगी।

धन कमाना: भारत के आत्मनिर्भर होने से देश में व्यापार के अवसर तो बढेंगे ही साथ ही देश के लिए अच्छा धन भी आयेगा जिससे देश की अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी।

आयात की जगह बढ़ेगा निर्यात: भारत के आत्मनिर्भर बनने से पहले भारत उन सामानों का निर्यात करेगा जो देश अब तक आयात करता था, इससे देश में विदेशी मुद्रा के भंडार में वृद्धि होगी।

आपदा के समय संकटमोचक बनेगा खजाना: आत्मनिर्भर बनने से भारत में रोजगार बढ़ेगा और देश की अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी जिससे संकट के समय वह पैसा देश की रक्षा के काम आएगा।

आत्मनिर्भर भारत के सामने संभावित चुनौतियां

भारत के आत्मनिर्भर बनने के सपने को पूरा करने के लिए कुछ चुनौतियों से निपटने की जरूरत है।

लागत और गुणवत्ता – भारत के अपने उत्पादों में एक समस्या है जो सबसे बड़ी है। भारत के उत्पाद निर्माण में, यह देखना महत्वपूर्ण है कि क्या भारत में बने उत्पादों की गुणवत्ता वास्तव में अच्छी है और उनकी लागत कम है।

आर्थिक समस्या – भारत में जनसंख्या और गरीबी दोनों तेजी से बढ़ रही है। किसी भी नए उत्पादन के लिए पूँजी की पहली आवश्यकता होती है, हालाँकि भारत में कई ऐसी योजनाएँ हैं जो किसी भी नए उत्पादन या व्यवसाय को शुरू करने के लिए ऋण प्रदान करती हैं। लेकिन यह भी कहा जा सकता है कि शुरुआती दौर में देश को आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

इन्फ्रास्ट्रक्चर – कई आर्थिक और व्यापार विशेषज्ञों के अनुसार, उनके अनुसार, चीन से आने वाली अधिकांश कंपनियों के भारत में नहीं आने का एक मुख्य कारण भारतीय औद्योगिक क्षेत्र (विशेषकर प्रौद्योगिकी के मामले में) में एक मजबूत बुनियादी ढांचा है। कमी मानी जाती है। यही कारण है कि भारत में बड़ी मात्रा में वस्तुओं का आयात किया जा रहा है, जिससे भारत का अधिकांश व्यापार अन्य देशों पर निर्भर है। आत्मनिर्भर भारत बनने की इस समस्या को भी दूर करना होगा।

निजी क्षेत्र को बढ़ावा

आत्मनिर्भर भारत अभियान में निजी क्षेत्रों को लाभ हो सकता है, हालांकि इस अभियान का उद्देश्य कहीं न कहीं यह भी है कि देश में व्यापार और उद्योगों को बढ़ाया जाए।

  • आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत देश के निजी क्षेत्रों को बढ़ाया जाएगा। इसमें घरेलू उद्योगों और व्यापार को बढ़ावा देने के लिए पिछले बजट सत्र 2021-22 में कई बड़ी घोषणाएं की गई हैं।
  • इस अभियान के तहत निजी क्षेत्र की कंपनियों को निजी क्षेत्रों के हस्तक्षेप के लिए खोल दिया जाएगा।
  • इस अभियान के तहत भारतीय बाजार में निजी कंपनियों की मांग और हस्तक्षेप भी बढ़ेगा।

निष्कर्ष

हम आसानी से उपलब्ध प्राकृतिक संसाधनों और कच्चे माल से माल का निर्माण कर सकते हैं और उन्हें अपने आसपास के बाजारों में बेच सकते हैं। इससे आप स्वयं के साथ-साथ आत्मनिर्भर भारत की राह में अपना योगदान दे सकते हैं और हम सब मिलकर एक आत्मनिर्भर राष्ट्र के निर्माण के सपने को मजबूत करने में सहयोग कर सकते हैं।

अन्य जानकारियाँ

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को आत्मनिर्भर भारत पर निबंध (Aatm Nirbhar Bharat Essay in Hindi) से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में भी पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें जो लोग अपनी लम्बाई बढ़ाना चाहतें हैं, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Leave a Comment

x
अजिंक्य रहाणे के बारे में 10 ऐसी बाते जो आप नहीं जानते! Amazon New Sale: 80% तक की छूट के साथ मिल रहे हैं ये प्रोडक्ट्स! 10 Facts You Didn’t Know About Lil Yachty (American Singer) 10 Facts You Didn’t Know About Bad Bunny Korean visual artist Kim Jung-gi dies at 47