महात्मा गांधी पर निबंध | Essay on Mahatma Gandhi In Hindi

महात्मा गांधी निबंध: नमस्कार दोस्तों, कैसे है आप सभी? मैं आशा करता हूँ कि आप सभी अच्छे ही होंगे. दोस्तों उद्देश्यपूर्ण विचारधारा से परिपूर्ण महात्मा गांधी का व्यक्तित्व आदर्शवाद की दृष्टि से श्रेष्ठ था। इस युग के युग पुरुष की उपाधि से सम्मानित महात्मा गांधी को समाज सुधारक के रूप में जाना जाता है, लेकिन महात्मा गांधी के अनुसार सामाजिक उत्थान के लिए समाज में शिक्षा का योगदान आवश्यक है।

महात्मा गांधी निबंध | Mahatma Gandhi Essay In Hindi
महात्मा गांधी निबंध | Mahatma Gandhi Essay In Hindi

महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर सन 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। वे जन्म से सामान्य थे लेकिन अपने कर्मों से महान बने। रवींद्रनाथ टैगोर के एक पत्र में, उन्हें “महात्मा” गांधी के रूप में संबोधित किया गया था। तभी से दुनिया उन्हें मिस्टर गांधी की जगह महात्मा गांधी कहने लगी।

आज के इस लेख में हम आपके लिए हम सब के प्यारे बापू, हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी निबंध (Mahatma Gandhi Essay In Hindi) लेकर आये है जोकि छात्रों के लिए काफी उपयोगी हो सकता है, अतः यदि आप एक छात्र है तो इस लेख को अंत तक पढ़े.

महात्मा गांधी निबंध (Mahatma Gandhi Essay In Hindi)

महात्मा गांधी निबंध (Mahatma Gandhi Essay In Hindi) निम्नलिखित है:

महात्मा गांधी निबंध – 1 (300 शब्द)

प्रस्तावना,

“अहिंसा परमो धर्मः” के सिद्धांत को नींव बना कर, विभिन्न आंदोलनों के माध्यम से महात्मा गाँधी ने देश को गुलामी के जंजीर से आजाद कराया। वह अच्छे राजनीतिज्ञ के साथ बहुत अच्छे वक्ता भी थे। उनके द्वारा बोले गए वचनों को आज भी लोगों द्वारा दोहराया जाता है।

महात्मा गांधी का प्रारंभिक जीवन

महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर, 1867 को पश्चिमी भारत (वर्तमान गुजरात) के एक तटीय शहर में हुआ था। उनके पिता का नाम करमचंद गांधी और माता का नाम पुतलीबाई था। महात्मा गांधी के पिता काठियावाड़ (पोरबंदर) की छोटी रियासत के दीवान थे। आस्था और उस क्षेत्र के जैन धर्म की परंपराओं में लीन मां के कारण गांधीजी के जीवन पर इसका गहरा प्रभाव पड़ा। जैसे आत्मा की शुद्धि के लिए उपवास आदि। 13 वर्ष की आयु में गांधी जी का विवाह कस्तूरबा से हो गया।

महात्मा गांधी की शिक्षा दीक्षा

गांधी जी का बचपन में पढ़ने का मन नहीं था, लेकिन बचपन से ही उन्हें सही और गलत का फर्क पता था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा पोरबंदर से हुई, उन्होंने हाई स्कूल की परीक्षा राजकोट से की। और उन्हें मैट्रिक के लिए अहमदाबाद भेज दिया गया। बाद में उन्होंने लंदन से वकालत की।

शिक्षा में महात्मा गांधी का योगदान

महात्मा गांधी का मानना ​​था कि भारतीय शिक्षा सरकार के अधीन नहीं बल्कि समाज के अधीन है। इसीलिए महात्मा गांधी भारतीय शिक्षा को ‘सुंदर वृक्ष’ कहते थे। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में विशेष योगदान दिया। उनकी इच्छा थी कि भारत का प्रत्येक नागरिक शिक्षित हो। गांधीजी का मूल मंत्र ‘बिना शोषण के समाज की स्थापना’ करना था।

गांधीजी के बुनियादी शिक्षा सिद्धांत

  • 7 से 14 साल के बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा मिलनी चाहिए।
  • शिक्षा का माध्यम मातृभाषा होनी चाहिए।
  • साक्षरता को शिक्षा नहीं कहा जा सकता।
  • शिक्षा बालक के मानवीय गुणों का विकास करती है।

निष्कर्ष

बचपन में गांधी जी को मंदबुद्धि माना जाता था। लेकिन बाद में उन्होंने भारतीय शिक्षा में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

महात्मा गांधी निबंध – 2 (400 शब्द)

परिचय

1915 में, राजवैद्य जीवराम कालिदास ने बापू के रूप में बापू के रूप में संबोधित किया, जिन्होंने देश की स्वतंत्रता में एक मौलिक भूमिका निभाई और सभी को सत्य और अहिंसा का मार्ग दिखाया। दशकों बाद भी दुनिया उन्हें बापू के नाम से बुलाती है।

बापू को ‘राष्ट्रपिता’ की उपाधि किसने दी?

महात्मा गांधी को पहली बार राष्ट्रपिता के रूप में किसने संबोधित किया, इस बारे में कोई स्पष्ट जानकारी नहीं है, लेकिन 1999 में गुजरात उच्च न्यायालय में दायर एक मुकदमे के कारण, सभी परीक्षण पुस्तकों में न्यायमूर्ति बेविस पारदीवाला, रवींद्रनाथ टैगोर ने पहली बार गांधीजी को बुलाया। . राष्ट्रपिता को बुलाकर यह जानकारी देने का आदेश जारी किया।

महात्मा गांधी के आंदोलन

देश की स्वतंत्रता के लिए बापू द्वारा लड़े गए प्रमुख आंदोलन निम्नलिखित हैं-

1. असहयोग आंदोलन

जलियांवाला बाग हत्याकांड से गांधी इस बात से अवगत हो गए कि ब्रिटिश सरकार से न्याय की उम्मीद करना व्यर्थ है। इसलिए, उन्होंने सितंबर 1920 से फरवरी 1922 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेतृत्व में असहयोग आंदोलन शुरू किया। लाखों भारतीयों के समर्थन से, यह आंदोलन अत्यधिक सफल रहा। और इससे ब्रिटिश सरकार को बड़ा झटका लगा।

2. नमक सत्याग्रह

12 मार्च 1930 से साबरमती आश्रम (अहमदाबाद में जगह) से दांडी गांव तक 24 दिन का मार्च निकाला गया। नमक पर ब्रिटिश सरकार के एकाधिकार के खिलाफ यह आंदोलन छेड़ा गया था। गांधीजी द्वारा किए गए आंदोलनों में यह सबसे महत्वपूर्ण आंदोलन था।

3. दलित आंदोलन

अखिल भारतीय अस्पृश्यता विरोधी लीग की स्थापना गांधीजी ने 1932 में की थी और उन्होंने 8 मई 1933 को अस्पृश्यता विरोधी आंदोलन शुरू किया था।

4. भारत छोड़ो आंदोलन

ब्रिटिश साम्राज्य से भारत की तत्काल स्वतंत्रता के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस के मुंबई अधिवेशन से महात्मा गांधी द्वारा द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 8 अगस्त 1942 को भारत छोड़ो आंदोलन शुरू किया गया था।

5. चंपारण सत्याग्रह

अंग्रेज जमींदार गरीब किसानों से बहुत कम कीमत पर जबरन नील की खेती करवा रहे थे। इससे किसानों में भुखमरी की स्थिति पैदा हो गई है। यह आंदोलन 1917 में बिहार के चंपारण जिले में शुरू हुआ था। और यह भारत में उनकी पहली राजनीतिक जीत थी।

निष्कर्ष

महात्मा गांधी के शब्दों में, “कुछ ऐसे जियो जैसे कि तुम कल मरने वाले हो, कुछ ऐसा सीखो जो तुम हमेशा जीने वाले हो”। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने इन्हीं सिद्धांतों पर जीवन जीते हुए भारत की आजादी के लिए ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ कई आंदोलन लड़े।

महात्मा गांधी निबंध – 3 (500 शब्द)

परिचय

“कमजोर कभी माफी नहीं मांगते, क्षमा करना बलवानों की विशेषता है” – महात्मा गांधी

गांधी जी की बातों का समाज पर गहरा असर आज भी देखा जा सकता है। वह एक मानव शरीर में पैदा हुए एक शुद्ध आत्मा थे। जिन्होंने अपनी बुद्धि से भारत को एकता के सूत्र में बांधा और समाज में व्याप्त जातिवाद जैसी बुराइयों का नाश किया।

गांधी जी का अफ्रीका दौरा

दक्षिण अफ्रीका में गांधी जी को भारतीयों का अत्याचार सहना पड़ा। फर्स्ट क्लास ट्रेन का टिकट होने के बावजूद उन्हें थर्ड क्लास में जाने को कहा गया। विरोध करने पर उसे अपमानित कर चलती ट्रेन से नीचे फेंक दिया गया। इतना ही नहीं साउथ अफ्रीका के कई होटलों में उनकी एंट्री पर रोक लगा दी गई थी।

बापू की अफ्रीका से भारत वापसी

1914 में उदारवादी कांग्रेसी नेता गोपाल कृष्ण गोखले के निमंत्रण पर गांधी भारत लौटे। इस समय तक बापू भारत में एक राष्ट्रवादी नेता और संगठनकर्ता के रूप में प्रसिद्ध हो चुके थे। उन्होंने देश की मौजूदा स्थिति को समझने के लिए सबसे पहले भारत का दौरा किया।

गांधी, कुशल राजनीतिज्ञ के साथ सर्वश्रेष्ठ लेखक

गांधी एक कुशल राजनीतिज्ञ होने के साथ-साथ बहुत अच्छे लेखक भी थे। जीवन के उतार-चढ़ाव को उन्होंने कलम के सहारे पन्ने पर उतारा है। महात्मा गांधी ने हरिजन, इंडियन ओपिनियन, यंग इंडिया में संपादक के रूप में काम किया। और उनके द्वारा लिखी गई प्रमुख पुस्तकें हिंद स्वराज (1909), दक्षिण अफ्रीका में सत्याग्रह (जिसमें उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में अपने संघर्ष का वर्णन किया है), मेरे सपनों का भारत और ग्राम स्वराज हैं। गांधीवाद की धारा से भरी यह किताब आज भी समाज में नागरिक का मार्गदर्शन करती है।

गांधीवादी विचारधारा का महत्व

दलाई लामा के शब्दों में, “आज विश्व शांति और विश्व युद्ध, आध्यात्मिकता और भौतिकवाद, लोकतंत्र और सत्तावाद के बीच एक महान युद्ध चल रहा है।” इस अदृश्य युद्ध को जड़ से खत्म करने के लिए गांधीवादी विचारधारा को अपनाना जरूरी है। संयुक्त राज्य अमेरिका के मार्टिन लूथर किंग, दक्षिण अमेरिका के नेल्सन मंडेला और म्यांमार की आंग सान सू की जैसे विश्व प्रसिद्ध समाज सुधारकों के बीच सार्वजनिक नेतृत्व के क्षेत्र में गांधीवादी विचारधारा को सफलतापूर्वक लागू किया गया है।

एक नेता के रूप में गांधीजी

भारत लौटने के बाद, गांधीजी ने ब्रिटिश साम्राज्य से भारतीय स्वतंत्रता की लड़ाई का नेतृत्व किया। उन्होंने कई अहिंसक सविनय अवज्ञा अभियान आयोजित किए, कई बार जेल गए। महात्मा गांधी से प्रभावित होकर लोगों का एक बड़ा समूह ब्रिटिश सरकार के लिए काम करने से इंकार करने, अदालतों का बहिष्कार करने जैसे काम करने लगा। इनमें से प्रत्येक विरोध ब्रिटिश सरकार की शक्ति के सामने छोटा लग सकता है, लेकिन जब अधिकांश लोगों द्वारा इसका विरोध किया जाता है, तो इसका समाज पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है।

प्रिय बापू का निधन

30 जनवरी 1948 की शाम को दिल्ली के बिड़ला भवन में मोहनदास करमचंद गांधी की नाथूराम गोडसे ने बरता पिस्टल से गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस हत्याकांड में नाथूराम समेत 7 लोग दोषी पाए गए थे। गांधीजी का अंतिम संस्कार 8 किमी तक किया गया। यह देश के लिए दुख की घड़ी थी।

निष्कर्ष

हैरानी की बात यह है कि शांति के लिए “नोबल पुरस्कार” के लिए पांच बार नामांकित होने के बाद भी, गांधीजी को आज तक नहीं मिला है। प्रिय बापू, जिन्होंने सभी को अहिंसा का पाठ पढ़ाया, अब हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनके सिद्धांत हमेशा हमारा मार्गदर्शन करेंगे।

महात्मा गांधी निबंध – FAQs

1. गांधी जी का जन्म कब हुआ था?

महात्मा गाँधी का जन्म 2 अक्टूबर सन 1869 में हुआ था।

2. महात्मा गांधी का जन्म कहाँ हुआ था?

महात्मा गाँधी का जन्म गुजरात के पोरबंदर में हुआ था।

3. महात्मा गांधी कौन जाति के थे?

महात्मा गाँधी जी की जातीयता गुजरती थी।

4. महात्मा गांधी के आध्यात्मिक गुरु कौन थे?

राजचंद्र जी महात्मा गांधी के आध्यात्मिक गुरु थे।

5. महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा जाता है?

4 जून 1944 को सुभाष चन्द्र बोस ने सिंगापुर रेडियो से एक संदेश प्रसारित करते हुए महात्मा गांधी को ‘देश का पिता’ कहकर संबोधित किया था इसके बाद 6 जुलाई 1944 को सुभाष चन्द्र बोस ने एक बार फिर रेडियो सिंगापुर से एक संदेश प्रसारित कर गांधी जी को राष्ट्रपिता कहकर संबोधित किया। बाद में भारत सरकार ने भी इस नाम को मान्यता दे दी।

6. महात्मा गांधी के कितने बेटे थे?

महात्मा गांधी के 4 बेटे हरीलाल गांधी, रामदास गांधी, देवदास गांधी और मनीलाल गांधी थे. हरीलाल गांधी के सबसे बड़े बेटे थे।

अंतिम शब्द

तो दोस्तों आज हमने महात्मा गांधी निबंध (Mahatma Gandhi Essay In Hindi) के बारे में विस्तार से जाना है और मैं आशा करता हु की आप सभी को यह लेख पसंद आया होगा और आपके लिए हेल्पफुल भी होगा.

यदि आप को सच में यह लेख पसंद आया है और आपको इससे कुछ सिखने को मिला है तो इसे अपने सभी दोस्तों के साथ भी जरुर से शेयर करे.

आर्टिकल को अंत तक पढने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद.

Leave a Comment

x
10 Facts You Didn’t Know About Mandy Rose (Wrestler) 10 Facts You Didn’t Know About Kehlani (Singer) 10 Facts You Didn’t Know About Jenna Ortega (Actress) 10 Facts You Didn’t Know About Emily Blunt (Actress) 10 Facts You Didn’t Know About Maria Telkes