Raksha Bandhan 2021 | रक्षाबंधन कब है? | रक्षाबंधन 2021 के बारे में पूरी जानकारी

Raksha Bandhan 2021 | रक्षाबंधन कब है | Raksha Bandhan Date 2021 | रक्षाबंधन 2021 के बारे में जानकारी | Raksha Bandhan Kab Hai | रक्षाबंधन 2021 कितने तारीख को है | रक्षाबंधन का महत्त्व | रक्षाबंधन का त्यौहार मनाने का तरीका | रक्षाबंधन कैसे मनायें

Raksha Bandhan 2021 | रक्षाबंधन कब है? | रक्षाबंधन 2021 के बारे में पूरी जानकारी
Raksha Bandhan 2021 | रक्षाबंधन कब है? | रक्षाबंधन 2021 के बारे में पूरी जानकारी

रक्षाबंधन कब है? | Raksha Bandhan Kab Hai

Raksha Bandhan 2021: रक्षाबंधन का पर्व बहन और भाई के प्रेम का प्रतीक है। इसमें बहन अपने भाई को तिलक लगाती है और उसकी लंबी उम्र की कामना करती है। भाई जीवन भर सुख-दुख में बहन का साथ देने का वादा भी करता है और बहन को स्नेह के रूप में उपहार भी देता है।

इस पर्व को मनाने की परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है। यह त्योहार हिंदी कैलेंडर के श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। पूर्णिमा के दिन मनाए जाने के कारण इसे कई जगहों पर राखी पूर्णिमा भी कहा जाता है। इस साल रक्षा बंधन (Raksha Bandhan Date 2021) 22 अगस्त, रविवार को है। आइए जानते हैं रक्षाबंधन 2021 के बारे में जानकारी जैसे: शुभ मुहूर्त, मंत्र, आदि।

रक्षाबंधन त्योहार का प्रचालन (The Origin of Raksha Bandhan)

रक्षा बंधन की उत्पत्ति के बारे में कई अलग-अलग किंवदंतियाँ हैं (ऐसा कुछ जिसे लोग परंपरा से सुनते आ रहे हैं, लेकिन इसके ठीक होने का कोई ठोस प्रमाण नहीं है)। कुछ मामलों में वे पौराणिक हैं जबकि अन्य में वे ऐतिहासिक हैं।

हिंदू शास्त्रों के अनुसार, जब राक्षसों या असुरों ने देवताओं के राजा इंद्र को हराया, तो उनकी पत्नी इंद्राणी ने उनकी कलाई के चारों ओर एक पवित्र पीला धागा बांध दिया। इसके संरक्षण से दृढ़ होकर, वह युद्ध करने और युद्ध जीतने के लिए आगे बढ़ा।

देवी लक्ष्मी ने अपने भगवान विष्णु की वापसी का अनुरोध करने के लिए राक्षस राजा बलि की कलाई पर राखी बांधी, जो बाली के द्वार की रखवाली कर रहे थे।

महाभारत में, रानी द्रौपदी ने अपनी चोट को ठीक करने के लिए एक बार कृष्ण की कलाई पर अपने ही कपड़े से फटे पीले कपड़े का एक टुकड़ा बांध दिया था। कृष्ण उस क्रिया से इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने उन्हें अपना भाई बना लिया और अब उनकी रक्षा करने की जिम्मेदारी थी जो उन्होंने अपने पांच शक्तिशाली पतियों के बावजूद बार-बार की।

रक्षाबंधन शायरी (Happy Raksha Bandhan Status Shayari)

सावन की रिमझिम फुहार है,
रक्षाबंधन का त्यौहार है।
भाई बहन की मीठी सी तकरार है,
ऐसा यह प्यार और खुशियों का त्यौहार है।।
रक्षाबंधन की ढेर सारी शुभकामनाएँ
आसमान नीला है , राखी का दिन खिला है।
बहन को भाई मिला, सब का मुख खिला-खिला है।।
दिल से दिल मिल गए।
राखी के दिन भाई बहन मिल गए।।
हैप्पी रक्षा बंधन
दूर रहने से भाई-बहन का प्यार कभी कम नहीं होगा।
याद ना करूँ आपको दी, ऐसा कोई मौसम नहीं होगा।।
बहन का प्यार किसी दुआ से कम नहीं होता।
वो चाहे कितनी भी दूर हो पर प्यार कम नहीं होता।।
रक्षाबंधन की शुभकामनाएं

2021 रक्षाबंधन का एपिक कलेक्शन

रक्षाबंधन 2021 का शुभ मुहूर्त

पूर्णिमा तिथि प्रारंभ21 अगस्त की शाम 03 बजकर 45 मिनट से
पूर्णिमा तिथि समाप्त22 अगस्त की शाम 05 बजकर 58 मिनट तक
शुभ समय22 अगस्त, रविवार सुबह 05:50 बजे से शाम 06:03 बजे तक
रक्षा बंधन के लिए दोपहर का उत्तम समय22 अगस्त को 01:44 बजे से 04:23 बजे तक
अभिजीत मुहूर्तदोपहर 12:04 से 12:58 मिनट तक
अमृत कालसुबह 09:34 से 11:07 तक
ब्रह्म मुहूर्त04:33 से 05:21 तक
भद्रा काल23 अगस्त, 2021 सुबह 05:34 से 06:12 तक

रक्षा सूत्र बांधते समय यदि बहनें निम्न मंत्र उच्चारण करती है। तो भाईयों की आयु में बढती है।

येन बद्धो बलि राजा, दानवेन्द्रो महाबल: ।
तेन त्वांमनुबध्नामि, रक्षे मा चल मा चल ।।

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त

इस साल अर्थात Raksha Bandhan 2021 में राखी बांधने का शुभ मुहूर्त 22 अगस्त 2021 को दोपहर 01 बजकर 42 मिनट दोपहर से शाम 04 बजकर 18 मिनट तक रहेगा।

रक्षाबंधन का त्यौहार मनाने का तरीका

अगर आप भी यह जानना चाहते है की इस वर्ष अर्थात Raksha Bandhan 2021का रक्षाबंधन कैसे मनायें, तो निचे हमने पूरी विधि बताई है:-

  • रक्षाबंधन के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण करें।
  • इसके बाद घर की सफाई करें और चौकोर को चावल के आटे से भरकर एक छोटा मिट्टी का बर्तन स्थापित करें।
  • चावल, कच्चा सूती कपड़ा, राई, रोली एक साथ मिला लें।
  • फिर पूजा की थाली तैयार करें और दीपक जलाएं।
  • मिठाई को प्लेट में रखें।
  • इसके बाद भाई को पीढ़ी पर बिठाएं।
  • पेड़ा आम की लकड़ी का हो तो बेहतर है।
  • रक्षा सूत्र बांधते समय भाई को पूर्व दिशा में बिठाएं।
  • वहीं भाई को तिलक लगाते समय बहन का मुख पश्चिम की ओर होना चाहिए।
  • इसके बाद भाई के माथे पर टीका लगाएं और दाहिने हाथ पर एक सुरक्षात्मक धागा बांधें।
  • राखी बांधने के बाद भाई की आरती करें और फिर उसे मिठाई खिलाएं।
  • यदि बहन बड़ी है तो छोटे भाई को आशीर्वाद दें और यदि आप छोटे हैं तो बड़े भाई को प्रणाम करें।
Also Read: लक्ष्मी प्राप्ति के घरेलू उपाय 2021

रक्षाबंधन का महत्त्व

पौराणिक कथा के अनुसार, राजा बलि को वचन देकर जब विष्णु पाताल जा पहुंचे तो श्रावण माह की पूर्णिमा को ही लक्ष्मी ने रक्षा सूत्र बांधकर विष्णु को मांगा था।

एक अन्य कथा के अनुसार राजसूय यज्ञ के समय भगवान कृष्ण को द्रौपदी ने रक्षा सूत्र के रूप में अपने आंचल का टुकड़ा बांधा था। इसी के बाद से बहनों द्वारा भाई को राखी बांधने की परंपरा शुरू हो गई।

रक्षाबंधन के दिन ब्राहमणों द्वारा अपने यजमानों को राखी बांधकर उनकी मंगलकामना की जाती है। इस दिन विद्या आरंभ करना भी शुभ माना जाता है।

Also Read: Nag Panchami 2021 के बारे में पूरी जानकारी

रक्षाबंधन के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न

1. रक्षाबंधन का त्यौहार कब मनाया जाता है?

उत्तर :- श्रावण माह की पूर्णिमा के दिन

2. रक्षाबंधन (2021) कब है?

उत्तर :- 22 अगस्त 2021

3. रक्षाबंधन का त्यौहार कैसे मनाते हैं?

उत्तर :- इस त्यौहार के दिन बहनें अपने भाइयों को राखी बांधती है।

4. रक्षाबंधन का इतिहास कितने साल पुराना है?

उत्तर :- इसके पीछे कई कहानियाँ है, इसलिए यह कहना मुश्किल है कि यह किस साल से शुरू हुआ था।

डिसक्लेमर : इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।''

अंतिम प्रक्रिया

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को रक्षाबंधन (Raksha Bandhan 2021) से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Leave a Comment

x