Pranayama क्या है? | प्राणायाम कैसे करे

Pranayama क्या है? – आजकल जिस तरह से लोग प्राकृतिक जीवन शैली को छोड़ रहे हैं और भौतिकवाद के पीछे तेजी से भाग रहे हैं, हमें कहीं न कहीं नुकसान उठाना पड़ रहा है। जिसका सबसे बड़ा उदाहरण COVID-19 के रूप में देखा जाता है।

आजकल हम छोटी से छोटी बीमारियों के लिए भी दवा पर निर्भर हो गए हैं, जिसकी वजह से हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता लगातार कम होती जा रही है। जब भी हम किसी बीमारी के लिए एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल करते हैं, तो हमारे शरीर में मौजूद बैक्टीरिया उस दवा के प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेते हैं। जिसके कारण हमें अधिक मात्रा में एंटीबायोटिक्स का उपयोग करना पड़ता है।

और आज के दौर में यह क्रम जीवन की सबसे बड़ी सच्चाई बन गया है। जिसके कारण जीवन में एक समय ऐसा आता है जब हमारा जीवन पूरी तरह से दवाओं द्वारा समर्थित होता है। क्या आपने कभी सोचा है कि पशु और पक्षी सबसे कम बीमार हैं? जानिए ऐसा क्यों है क्योंकि वे हर छोटी-मोटी बीमारी के लिए दवाई नहीं खाते हैं, बल्कि डाइट पर लगाम लगाकर अपनी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं।

Pranayama क्या है? | प्राणायाम कैसे करे
Pranayama क्या है? | प्राणायाम कैसे करे

अगर आप भी रोग मुक्त जीवन जीना चाहते हैं और अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता यानि रोग प्रणाली को और अधिक विकसित करना चाहते हैं, तो आपको अष्टांग योग में वर्णित प्राणायाम को अपने जीवन का एक निश्चित हिस्सा बनाना चाहिए।

प्राणायाम दीर्घायु और स्वास्थ्य जीवन जीने का अभ्यास है। यदि हम इस अभ्यास को अपने जीवन का हिस्सा बनाते हैं, तो हम एक स्वस्थ जीवन जी सकते हैं।

कई पौराणिक योग उपनिषदों में लिखा गया है कि यदि कोई व्यक्ति प्रतिदिन प्राणायाम करता है, तो वह हर बीमारी से दूर रहता है। छोटी-छोटी बीमारियां उसे कभी नहीं छूती हैं और उसका शरीर लंबे समय तक जवान रहता है और वह व्यक्ति लंबा और स्वस्थ जीवन जीता है।

और अगर कोई व्यक्ति बीमारियों से पीड़ित है तो उसे प्राणायाम करना शुरू कर देना चाहिए। धीरे-धीरे समय के साथ उसकी बीमारियां खत्म होने लगती हैं। इसीलिए आज के समय में प्राणायाम करना बहुत जरूरी है, तो चलिए जानते हैं कि प्राणायाम क्या है?

Contents hide
4 प्राणायाम कैसे करें?

Pranayama क्या है? Pranayama in Hindi

प्राणायाम दो शब्दों का एक योग समूह है जो प्राण + आयाम जैसे दो शब्दों से बना है। जिसमें प्राण का अर्थ है जीवन और आयाम का अर्थ है द्वार से। यदि इसे स्वस्थ जीवन जीने का द्वार कहा जाए, तो यह अतिश्योक्ति नहीं होगी।

प्राणायाम जीवन का उचित और संतुलित प्रवाह है।

प्राणायाम का अर्थ है अपने जीवन को ठीक करना, श्वास द्वारा अपने जीवन को बढ़ाना, जिससे फेफड़ों की क्षमता बढ़ती है और शरीर में अधिक मृत्यु होती है। जितना अधिक जीवन शरीर में जाएगा, उतनी ही ऑक्सीजन की मात्रा भी बढ़ेगी और शरीर अधिक शक्तिशाली और सक्रिय महसूस करेगा।

प्राणायाम करने से हमारे शरीर को कई लाभ मिलते हैं, लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि प्राणायाम करने से आप डायबिटीज, हार्ट अटैक, कैंसर, अस्थमा आदि जैसी बड़ी खतरनाक बीमारियों से दूर रहते हैं और अगर आपको यह बीमारी हो गई है तो नियमित प्राणायाम कम करें इन रोगों की गति बढ़ जाती है और शरीर में प्रतिरोधक क्षमता विकसित होने लगती है।

योग के आठ अंग हैं जिन्हें अष्टांग योग कहा जाता है। प्राणायाम इस अष्टांग योग का एक हिस्सा है। जो इस प्रकार है

  • यम
  • नियम
  • आसन
  • प्राणायाम
  • निकासी
  • एक मान्यता
  • ध्यान दें
  • समाधि

प्राणायाम के प्रकार : Types Of Pranayama

प्राणायाम मुख्यतः 13 प्रकार के होते है जो निम्नवत है.

  1. भस्त्रिका प्राणायाम (Bhastrika Pranayam)
  2. अनुलोम-विलोम (Anulom Vilom Pranayam)
  3. कपालभाति प्राणायाम (Kapalbhati Pranayam)
  4. बाह्य प्राणायाम (Bahya Pranayama)
  5. भ्रामरी प्राणायाम (Bhramari Pranayam)
  6. उद्गीथ प्राणायाम (Udgeeth Pranayama)
  7. प्रणव प्राणायाम (Pranav Pranayama)
  8. अग्निसार क्रिया (Agnisar Pranayama)
  9. उज्जायी प्राणायाम (Ujjayi Pranayama)
  10. सीत्कारी प्राणायाम (Sitkari Pranayam)
  11. शीतली प्राणायम (Sheetali Pranayama)
  12. चंदभेदी प्राणायम (Chandra Bhedi Pranayam)
  13. सूर्यभेदी प्राणायाम (Surya Bhedi Pranayam)

प्राणायाम के नियम

Pranayama क्या है? – प्राणायाम करने के लिए कुछ नियमों का पालन करना बहुत जरूरी है। यह नियम बहुत सरल है, लेकिन इन नियमों का पालन करते हुए, प्राणायाम का नियमित रूप से अभ्यास करने से अत्यधिक लाभ मिलता है। प्राणायाम करने से पहले हमें इन नियमों को अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए तभी हमें इसका अभ्यास करना चाहिए।

  • प्राणायाम करने से पहले हमारे मन और शरीर को अंदर और बाहर से साफ होना चाहिए।
  • आपके मन के सारे विकार दूर होने चाहिए।
  • बैठने की जगह साफ होनी चाहिए और आसन जमीन पर फैला होना चाहिए।
  • बैठने की मुद्रा सरल होनी चाहिए। आप सुखासन, सिद्धासन, पद्मासन, वज्रासन किसी भी मुद्रा में बैठ सकते हैं, आपको उसी मुद्रा में बैठना चाहिए जिसमें आपको आसानी हो।
  • पीठ सीधी होनी चाहिए।
  • यदि जमीन पर बैठने में कठिनाई होती है, तो आप एक कुर्सी पर बैठकर भी प्राणायाम कर सकते हैं।
  • प्राणायाम करते समय उचित शक्ति का प्रयोग करना चाहिए। आवश्यकता से अधिक शारीरिक या मानसिक शक्ति का उपयोग न करें।
  • प्राणायाम करते समय शरीर पूरी तरह ढीला रहना चाहिए और अनावश्यक तनाव नहीं लेना चाहिए।
  • सांसों का आदान-प्रदान सुचारू और न्यायसंगत होना चाहिए।
  • उच्च रक्तचाप के रोगियों के लिए प्राणायाम धीमी गति से किया जाना चाहिए।
  • यदि धारणा हो गई है, तो कम से कम छह महीने के बाद प्राणायाम का अभ्यास करना चाहिए।
  • हर सांस के साथ अपने पसंदीदा का जप करें। ॐ का उच्चारण करना सर्वोत्तम है।

प्राणायाम कैसे करें?

यदि संभव हो तो, सुबह जल्दी सूरज उगने के बाद, रिटायरमेंट के बाद, किसी साफ जमीन पर किसी साफ आसन (सुखासन) पर बैठें। और हस्त मुद्राएं ज्ञान मुद्रा, ध्यान मुद्रा या वायु मुद्रा में होनी चाहिए।

1. भस्त्रिका प्राणायाम: Bhastrika Pranayam in hindi

प्राणायाम की प्रक्रिया में पहला प्राणायाम भस्त्रिका प्राणायाम है। सबसे पहले ऊपर बताई गई किसी भी मुद्रा में बैठें। उसके बाद, दोनों नासिका छिद्रों से एक लंबी सांस लेकर, वे धीरे-धीरे फेफड़ों को भरेंगे और फिर धीरे-धीरे पूरी सांस फेफड़ों से बाहर आएगी। सांस लेने और छोड़ने की गति समान होनी चाहिए।

भस्त्रिका प्राणायाम के लाभ: भस्त्रिका प्राणायाम से लाभ होता है

  • इसके कारण हमारे फेफड़ों में भरपूर ऑक्सीजन होगी और फेफड़े स्वस्थ और मजबूत बनेंगे।
  • इससे हमारा दिल मजबूत होगा और दिल से जुड़ी बीमारियों में कमी आएगी ।।
  • इससे बुद्धि शक्ति बढ़ती है और मस्तिष्क से संबंधित सभी रोग दूर होते हैं।
  • पार्किंसंस, लकवा, लुलपन आदि नसों से जुड़ी सभी बीमारियों में फायदेमंद है।

2. अनुलोम-विलोम प्राणायाम विधि: अनुलोम विलोम प्राणायाम

अनुलोम विलोम प्राणायाम को नाड़ी शोधन प्राणायाम भी कहा जाता है। सबसे पहले, अपनी उंगलियों को अपनी नाक के नीचे रखें और देखें कि आपकी नाक किस पर है। आपकी नाक में 2 नाड़ियाँ हैं, इंगला और पिंगला। अगर दाहिनी नाक से हवा आ रही है, तो इसका मतलब है कि आपका दाहिना फेफड़ा सक्रिय है।

और अगर बाईं नाक से हवा आ रही है, तो यह दर्शाता है कि आपका बायां फेफड़ा सक्रिय है, इसलिए पहले हम इस बंद नाक को खोलेंगे। अब वह नाक जिसके माध्यम से हवा नहीं आ रही है। हम पहले दाल को साफ करेंगे। इसके लिए, हम नाक को बंद कर देंगे, जिसके माध्यम से हवा आ रही है, और जिस नाक से हवा नहीं आ रही है, हम लंबी सांस लेंगे, और धीरे-धीरे सांस छोड़ेंगे।

अब अपने दाहिने हाथ के अंगूठे से अपनी दाईं नाक को बंद करें और बाईं नाक से लंबी सांस लें। अब अपनी दूसरी उंगली से अपने बाएं नथुने को बंद करें और दाएं नथुने से सांस छोड़ें। अब इसे उल्टा करें, दाएं नाक से लंबी सांस लें और फिर दाईं नाक को बंद करके बाएं नाक से सांस छोड़ें, ऐसा आप कम से कम 5 मिनट तक करेंगे और ऐसा करने के बाद आपके दोनों नथुने खुल जाएंगे।

अनुलोम-विलोम प्राणायाम के लाभ

इस प्राणायाम को करने से हृदय की रुकावट खुल जाती है। उच्च रक्तचाप और निम्न रक्तचाप दोनों में लाभ हैं। इस प्राणायाम को करने से फेफड़ों में स्वच्छ ऑक्सीजन पहुंचती है, जो फेफड़ों से संबंधित रोगों में बहुत अच्छा लाभ देती है और फेफड़ों को मजबूत बनाती है। यह स्मरण शक्ति को भी बढ़ाता है और माइग्रेन और मस्तिष्क से संबंधित सभी रोगों में लाभ प्रदान करता है।

3. कपालभाति प्राणायाम विधि: कपालभाति प्राणायाम हिंदी में

अब हम कपालभाति प्राणायाम करेंगे। कपालभाति करने के लिए सुखासन में बैठे। और अपनी सांस को बाहर की तरफ फेंकते हुए पेट को अंदर की ओर धकेलना होता है। इसमें सांस को बाहर छोड़ना होता है। जैसे ही आप साँस छोड़ते हैं, साँस अपने आप फिर से अंदर जाएगी। आपको जानबूझकर साँस लेने की ज़रूरत नहीं है। इस प्रक्रिया को कम से कम 5 मिनट तक करें।

कपालभाति प्राणायाम के लाभ: कपालभाति प्राणायाम हिंदी में लाभ

  • बालों की समस्या दूर होती है।
  • चेहरे की झुर्रियां और आंखों के नीचे के काले धब्बे गायब हो जाते हैं।
  • थायराइड की समस्या गायब हो जाती है।
  • आँखों की ज्योति बढ़ती है।
  • ऐसा करने से पेट की अतिरिक्त चर्बी कम होती है।
  • पेट के रोगों जैसे कब्ज, एसिडिटी, गैस्ट्रिक, बवासीर आदि में बहुत लाभ होता है।
  • चेहरे की चमक बढ़ती है।

4. बाह्य प्राणायाम विधि: बहु प्राणायाम

बाह्य प्राणायाम करने के लिए उचित अभ्यास की आवश्यकता होती है। बाहरी प्राणायाम का अर्थ है सांस को बाहर रखना और उसे बांधना। इस प्राणायाम को करने के लिए पहले पूरी सांस फेफड़ों और पेट से बाहर निकालें, फिर सांस रोकें और तीन बंध लगाएं।

  • जालंधर बंध: – साँस छोड़ने के बाद, गर्दन को संकुचित कर दिया जाता है और ठुड्डी को छाती से जोड़ा जाता है।
  • उदयन बंधन: – पेट पूरी तरह से पेट की ओर वापस आ जाता है। ऐसा लगता है जैसे पेट और पीठ एक में विलीन हो गए हैं।
  • मूल पट्टी: – आपके गुदा द्वार (गुदा) को पूरी तरह से ऊपर की ओर खींचना होता है।

इस अवस्था में कुछ समय तक रहना पड़ता है। इस अभ्यास को 5-6 बार दोहराएं।

बाह्य प्राणायाम के लाभ

  • इस अभ्यास को नियमित करने से पेट के रोग जैसे कब्ज, एसिडिटी, गैस आदि रोग जड़ से ख़त्म हो जाते हैं।
  • यह बांझपन जैसी बीमारियों में भी फायदेमंद है।
  • हर्निया जैसी कष्टदायी बीमारी पूरी तरह से ठीक हो जाती है।
  • धातु और मूत्र से संबंधित सभी रोग मिट जाते हैं।
  • इससे मन की एकाग्रता शक्ति बढ़ती है।

5. भ्रामरी प्राणायाम विधि

भ्रामरी प्राणायाम मस्तिष्क रोगों के लिए अमृत के समान है। ऐसा करना बहुत आसान है। सबसे पहले किसी भी सरल मुद्रा में बैठें, फिर दोनों अंगूठों से अपने दोनों कानों को पूरी तरह से बंद कर लें, फिर अपनी दोनों तर्जनी उंगलियों को अपने माथे पर रखें, फिर आँखों को बंद करें और दोनों हाथों की उंगलियों को दोनों आँखों पर रखें। फिर नाक से लंबी सांस भरें और एक सांस में with का जाप करें। इस क्रम को 5-6 बार दोहराएं।

भ्रामरी प्राणायाम के लाभ

भ्रामरी प्राणायाम एक तरह से दिमाग के लिए रामबाण औषधि है. इससे सभी प्रकार के मानसिक रोग दूर होते है. इसके बहुत सारे फायदे है. जो निम्न प्रकार से है…

  • सरदर्द, माइग्रेन इत्यादि रोगों के लिए अत्यंत लाभदायक है.
  • मानसिक शांति मिलती है. जिससे मन एवं मस्तिष्क दोनों ही प्रसन्न व शांत रहते है.
  • भ्रामरी प्राणायाम करने से मानसिक तनाव दूर होते है और नई उर्जा का संचार होता है.
  • मानसिक एकाग्रता बढती है और घबराहट कम होती है.
  • ब्लडप्रेशर : इस प्राणायाम का नियमित अभ्यास करने से ब्लडप्रेशर कण्ट्रोल में आ जाता है.
  • डिप्रेसन: यदि आप डिप्रेशन से ग्रसित हैं तो यह प्राणायाम आपके लिए रामबाण औषधि का कार्य करेगी.
  • काम वासना एवं क्रोध पर नियंत्रण मिलता है.
  • इच्छाशक्ति और संकल्प शक्ति बढती है.

6. उद्गीथ प्राणायाम

उद्गीत प्राणायाम एक तरह से मैडिटेशन प्राणायाम है. इस प्राणायाम को “ओमकारी जप” भी कहते है. यह अत्यंत सरल प्राणायाम है. सबसे पहले किसी भी आसन में बैठ जाए. फिर नाक से लम्बी साँस अन्दर ले, और फिर धीरे-धीरे पूरी सांस को ॐ का जाप करते हुए बाहर निकले. ॐ का जाप करते हुए सांस को बाहर निकालने में 10-15 सेकंड का समय ले. इस प्रकार एक सांस की प्रक्रिया पूरी हो जाती है. इस प्राणायाम का अभ्यास कम से कम 10-15 करे.

उद्गीथ प्राणायाम के लाभ

  • स्मरण शक्ति बढती है.
  • शारीरिक एवं मानसिक कार्य करने की क्षमता बढती है.
  • चिंता, भय, घबराहट, डिप्रेसन, मायग्रेन पेन, ब्लडप्रेशर इत्यादि में अभूतपूर्व आराम मिलता है.
  • सकारात्मक उर्जा का संचार होता है.
  • आत्मविश्वाश बढ़ता है.

7. प्रणव प्राणायाम

सबसे पहले धयान मुद्रा में बैठ जाए. उसके पश्चात अपनी आँखों को बंद कर ले. फिर धीरे-धीरे गहरी सांस लेते हुए मन में ॐ का उच्चारण करेंगे. इस अवस्था को 10-15 बार अभ्यास करे.

प्रणव प्राणायाम के लाभ

  • सकारात्मक उर्जा का संचार होता है.
  • आत्मविश्वाश बढ़ता है.
  • स्मरण शक्ति बढती है.
  • शारीरिक एवं मानसिक कार्य करने की क्षमता बढती है.
  • चिंता, भय, घबराहट, डिप्रेसन, मायग्रेन पेन, ब्लडप्रेशर इत्यादि में अभूतपूर्व आराम मिलता है.

8. अग्निसार क्रिया

यह क्रिया पेट रोगियों के लिए अमृत है. सबसे पहले आपको किसी भी आसन में बैठ जाना है. तत्पश्चात एक लम्बी स्वांस लेना है फिर पूरी सांस को बाहर निकालकर रोके रखना है फिर आपको अपना पेट आगे पीछे चलाना होता है. ध्यान रहे पेट के अतरिक्त शरीर का कोई अन्य अंग नहीं हिलाना होता है. आरम्भ में इस प्राणायाम को करने में थोड़ी सी परेशानी आएगी. लेकिन जैसे ही आप ५-६ बार इसका अभ्यास करेंगे. आपको ये सरल लगने लगेगा.

अग्निसार क्रिया के लाभ

  • इस अभ्यास को नियमित करने से पेट रोग जैसे कब्ज, ऐसिडिटी, गैस इत्यादि रोग मूल से ही समाप्त हो जाते है.
  • बांझपन जैसे रोग में भी लाभदायक है.
  • हर्निया जैसे कष्टदायी रोग पूरी तरह से ठीक हो जाता है.
  • धातु और पेशाब से संबंधित सभी रोग ख़त्म हो जाते है.
  • इससे मन की एकाग्रता शक्ति बढ़ती है.

9. उज्जायी प्राणायाम कैसे करे

आठ प्राणायामों में चौथा सबसे महत्वपूर्ण उज्जाई प्राणायाम हैं. उज्जाई प्राणायाम में गले को पूरा सिकोड कर ठोडी को छाती से सटाते है. फिर गले से गहरी सांस अन्दर फेफड़ों में भरते है, फिर यथाशक्ति सांस को भीतर ही रोक कर रखते है. स्वांस भरते समय कंठ से एक स्वर आता है. जब स्वास छोड़ने की इच्छा हो तो, दाई नाक को अंगूठे से बंद कर बायीं नाक से स्वांस छोड़ते है. इस प्रकार एक चक्र पूरा हो जाता है. एक बार में २-३ चक्रों का अभ्यास करे. उचित अभ्यास होने पर 7-11 बार भी इस प्राणायाम को किया जा सकता है. इस अभ्यास को 24 घंटे में एक बार ही करे.

उज्जायी प्राणायाम के फायदे

  • थायराइड के लिये उज्जाई प्राणायाम बहुत ही लाभकारी हैं.
  • तुतलाना, हकलाना इत्यादि शिकायत भी दूर होती है.
  • अनिद्रा, मानसिक तनाव भी कम करता है.
  • टी•बी•(क्षय रोग) में भी बहुत लाभकारी है.
  • जिनको गले में बार-बार संक्रमण होता हैं उनके लिए उज्जाई रामबाण हैं.
  • गले में जमे हुए कफ को ख़त्म करता है.

10. सीत्कारी प्राणायाम कैसे करे?

सीत्कारी प्राणायाम को सित्कार प्राणायाम भी कहते है. इस प्राणायाम को करते समय ‘सीत्‌-सीत्‌’ की ध्वनि उत्पन्न होती है जिसकी कारण इसे सीत्कारी प्राणायाम कहते है. सबसे पहले किसी भी मुद्रा में बैठ जाए. इसके बाद जिव्हा को तालू से लगाकर दोनों जबड़ो को बंद करना है. अब अपने मुंह को थोडा सा खोले और मुंह से सांस को भीतर की तरह खींचना है. अब सांस को थोड़ी देर तक रोके रखना है फिर नाक से सांस को बाहर निकल देने की प्रक्रिया सीत्कारी प्राणायाम कहलाती है.

सीत्कारी प्राणायाम के फायदे

  • पेट की गर्मी और जलन को शांत होती है.
  • जिन लोगों को ज्यादा पसीना आता है उन लोगो के लिए यह प्राणायाम लाभदायक है.
  • यह प्राणायाम शरीर को शीतलता प्रदान करता है.
  • इया प्राणायाम के नियमित अभ्यास से शरीर में शुद्ध वायु का संचार होता हैं.
  • इससे चेहरे का सौंदर्य बढ़ता है.
  • दंत रोग जैसे ठंडा-गर्म पानी लगना, पायरिया, गला, नाक, कान और मुंह के रोगों में लाभदायक है.

11.शीतली प्राणायाम कैसे करे?

शीतली प्राणायाम अपने नाम के अनुरूप ही शीतलता प्रदान करता है. सीत्कारी प्राणायाम की भांति ही यह प्राणायाम शरीर के तापमान को कम कर शीतलता प्रदान करता है. यह प्राणायाम न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक शांति भी प्रदान करता है. ग्रीष्म काल में यह प्राणायाम बहुत ही लाभकारी है.

इस प्राणायाम को करने के लिए सबसे पहले किसी भी आसन में बैठ जाये. आँखे बंद कर हाथों को ज्ञान, या ध्यान मुद्रा में रख ले. तत्पश्चात अपनी जिव्हा को O आकार देते हुए जिव्हा से सांस पूरी मात्र में अन्दर ले. और जालंधर बंध बनाकर कुछ देर तक साँस को रोक कर धीरे धीरे नासिका से बाहर निकल दे. इस प्रकार इस प्राणायाम का एक क्रम पूरा होता है. आप इस क्रम को कम से कम 10-15 बार करे. कफ प्रवृत्ति के लोगो को एवं वातावरण ठंडा होने पर यह प्राणायाम न करे.

शीतली प्राणायाम के फायदे?

  • मानसिक उत्तेजना कम करता है.
  • भूख प्यास की इच्छा को कम करता है.
  • पेट की गर्मी और जलन को शांत होती है.
  • इया प्राणायाम के नियमित अभ्यास से शरीर में शुद्ध वायु का संचार होता हैं.
  • इससे चेहरे का सौंदर्य बढ़ता है.

12.चन्द्रभेदी प्राणायाम कैसे करे?

चन्द्र भेदी प्रणायाम करने के सबसे पहले किसी भी आसन में बैठ जाये. मेरुदंड, कमर, व गर्दन को बिलकुल सीधा रखे. तत्पश्चात अपने बाए हाथ की मुद्रा ज्ञान मुद्रा में ले, और दाए हाथ के अंगूठे से दाई नाक को बंद कर बायीं नाक से गहरी सांस ले. सांस को यथा संभव रोके रखें उसके बाद दाहिनी नाक से धीरे-धीरे सांस को बहार निकल दे. इस प्रकार चन्द्रभेदी प्राणायाम का एक चक्र पूरा होता है. इस को कम से कम 10-15 बार करे. साँसों का क्रम सामान्य होना चाहि.

चन्द्रभेदी प्राणायाम के फायदे

  • चन्द्रभेदी प्राणायाम करने से मानसिक तनाव और शारीरिक थकन दूर होती है.
  • ह्रदय रोगों में यह प्राणायाम बहुत ही लाभदायक है.
  • फेफड़ों से सम्बंधित रोगों में भी बहुत लाभदायक है.
  • इससे चहरे की चमक बढती है.
  • आयु में वृद्धि होती है.

13. सूर्यभेदी प्राणायाम कैसे करे?

सूर्यभेदी प्रणायाम करने के सबसे पहले किसी भी आसन में बैठ जाये. मेरुदंड, कमर, व गर्दन को बिलकुल सीधा रखे. तत्पश्चात अपने दायें हाथ की मुद्रा ज्ञान मुद्रा में ले, और बायें हाथ के अंगूठे से बायें नाक को बंद कर दायें नाक से गहरी सांस ले. सांस को यथा संभव रोके रखें उसके बाद बायीं नाक से धीरे-धीरे सांस को बहार निकल दे. इस प्रकार सूर्यभेदी प्राणायाम का एक चक्र पूरा होता है. इस को कम से कम 10-15 बार करे. साँसों का क्रम सामान्य होना चाहि.

सूर्यभेदी प्राणायाम के फायदे

  • सूर्यभेदी प्राणायाम करने से मानसिक तनाव और शारीरिक थकन दूर होती है.
  • ह्रदय रोगों में यह प्राणायाम बहुत ही लाभदायक है.
  • फेफड़ों से सम्बंधित रोगों में भी बहुत लाभदायक है.
  • इससे चहरे की चमक बढती है.
  • आयु में वृद्धि होती है.

कौन-कौन सी बीमारियां दूर होती है प्राणायाम करने से?

अगर प्राणायाम को हजार रोगों की एक दवा कहा जाये तो अतिश्योक्ति नहीं होगी. प्राणायाम करने के हजारो फायदे है जो हम आपको गिना भी नहीं सकते है. हमारे शरीर का शायद ही ऐसा कोई अंग हो जो प्राणायाम के लाभ से वंचित रह जाता हो. यह लीवर, ह्रदय, किडनी, फेफड़े, दिमाग, आँख, इत्यादि सभी अंगों के लिए च्यवनप्राश का काम करता है. नीचे कुछ रोगों का वर्णन है जिनमे प्राणायाम अचूक कार्य करता है.

  • अनिद्रा रोग में अचूक काम करता है.
  • फेफड़ों से सम्बंधित रोग में रामबाण है.
  • खून की कमी दूर होती है.
  • ह्रदय से रोग दूर ही रहते है.
  • डिप्रेशन इत्यादि मानसिक रोगों से मुक्ति मिलती है.
  • मधुमेह इत्यादि में बहुत लाभदायक है.
  • कैंसर के बढ़ने की गति को धीमा करता है.
  • हाइपरटेंशन में लाभदायक है.
  • हाइपोटेंशन में भी रामबाण काम करता है.
  • स्वप्नदोष जैसे रोग नष्ट हो जाते है और वीर्य में वृद्धि होती है.
  • इरेक्टाइल डिस्फंक्शन
  • बाल झड़ना रुक जाता है.
  • आंखों की कमजोरी दूर होती है.
  • अस्थमा रोगियों के लिए वरदान है.
  • एलर्जी को ख़त्म करता है.
  • स्टैमिना बढ़ता है.
  • इम्‍यून सिस्‍टम मजबूत होता है
  • पाचन क्रिया मजबूत होती है
  • मानसिक एकाग्रता में सुधार होता है.
  • Weight loss होता है.
  • डिटॉक्‍सीफिकेशन होता है.

Final Words

तो दोस्तों आज हमने Pranayama क्या है? के बारे में विस्तार से जाना है और मैं आशा करता हु की आप सभी को आज का यह आर्टिकल पसंद आया होगा, और आप के लिए Helpful भी होगा.

यदि आप के मन में कोई भी प्रश्न है तो कमेंट कर के जरुर पूछे. आर्टिकल को पूरा पढने के लिए आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद.

Leave a Comment

x