पतंजलि मस्सा की दवाई | मस्से हटाने की दवा | Patanjali Wart Medicine

पतंजलि मस्सा की दवाई: आजकल मस्सों की समस्या भी त्वचा संबंधी समस्या में शामिल हो गई है। वैसे तो मर्द और औरत दोनों ही मस्से की समस्या से पीड़ित होते हैं, लेकिन महिलाओं को इस समस्या का सबसे ज्यादा खतरा होता है। मस्से शरीर में कहीं भी पैदा हो सकते हैं लेकिन ज्यादातर हाथ, पैर और चेहरे पर पाए जाते हैं। संक्रमण के परिणामस्वरूप, त्वचा की बाहरी परतें तेजी से विकास का अनुभव करती हैं, जिसके परिणामस्वरूप मस्से होते हैं।

पतंजलि मस्सा की दवाई | मस्से हटाने की दवा | Patanjali Wart Medicine
मस्से हटाने की दवा | Patanjali Wart Medicine
Contents hide

पतंजलि मस्सा की दवाई

पतंजलि एक बहुत बड़ा आयुर्वेद दावा उत्पाद कंपनी है जोकि अपने ज्यादातर दवाइयों को जड़ी बूटियों, आदि से बनात है, परन्तु अभी तक पतंजलि ने पतंजलि मस्सा की दवाई नहीं बनाई है। परन्तु मैंने निचे आपके लिए मस्से हटाने की दवा के बारे में बताया है जिसे आप अमेज़न से खरीद सकते है।

पतंजलि मस्सा की दवाई

पतंजलि मस्सा की दवाई
  • शरीर पर कही भी मस्से को कुछ ही दिनों में पूरी तरह से हटाने के लिए
  • परिणाम व्यक्ति से व्यक्ति और मस्से के साइज़ पर निर्भर करता है
  • कॉर्न, पिम्पल, ब्लैक स्पॉट, मोल आदि पर इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए
  • सिर्फ़ बाहरी उपयोग के लिए

मस्सा क्या होता है? – What Is Warts In Hindi

मस्से हानिरहित त्वचा में वृद्धि के रूप में होते हैं। यह ह्यूमन पैपिलोमा वायरस (एचपीवी) नामक वायरस के कारण होता है। यह गैर-कैंसरयुक्त है। यह वायरस शरीर में उस जगह से प्रवेश करता है जहां त्वचा कटी और फटी हुई होती है, वहां यह बढ़ता है और त्वचा की बाहरी परत को प्रभावित करता है।

मस्सो के प्रकार – Types Of Warts In Hindi

मस्से कई प्रकार के होते हैं-

आम मस्से – खुरदुरे उभरे हुए मस्से जो अक्सर हाथों पर पाए जाते हैं।

चपटे मस्से – ये अन्य मस्सों की तुलना में छोटे और नरम होते हैं। उनके पास सपाट सिरे होते हैं और आमतौर पर चेहरे, हाथ और पैरों पर पाए जाते हैं।

फिलीफॉर्म मस्से- ये धागों की तरह बढ़ते हैं और ज्यादातर चेहरे पर पाए जाते हैं।

प्लांटर मस्से- आमतौर पर पैरों के तलवों पर पाए जाते हैं और जब वे गुच्छों में बन जाते हैं तो मोज़ेक मौसा के रूप में जाने जाते हैं। ये छोटे काले डॉट्स वाले धक्कों और मोटे पैच हैं जो वास्तव में रक्त वाहिकाएं हैं।

पेरियुंगुअल मस्से- ये नाखूनों और पैर के नाखूनों के नीचे और आसपास बनते हैं। उनके पास एक खुरदरी सतह होती है और यह नाखून के विकास को प्रभावित कर सकती है।

आनुवंशिक मस्से- एक यौन संचारित रोग-अम्लता का सबसे आम रूप है। वे शरीर के प्रजनन अंगों जैसे योनि, लिंग, गुदा और अंडकोष पर बनते हैं। वे उभरे हुए या चपटे, अकेले या गुच्छों में बन सकते हैं, और संभोग के दौरान त्वचा के संपर्क से फैलते हैं।

चेहरे पर मस्से होने का कारण

मस्सों के होने के पीछे कई कारण होते हैं, जो इस प्रकार हैं-

  • एच.पी.वी. (ह्यूमन पेपिलोमावायरस) मस्से पैदा करता है जो बहुत संक्रामक होता है और सीधे संपर्क से फैलता है।
  • अगर आप अपने मस्सों को छूते हैं और फिर अपने शरीर के दूसरे हिस्से को छूते हैं, तो आप खुद को नए सिरे से संक्रमित कर सकते हैं।
  • साझा करने, तौलिये या निजी इस्तेमाल की अन्य चीजों का उपयोग करने से यह एक संक्रमित व्यक्ति से दूसरे में फैल सकता है।
  • हर कोई अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली की ताकत के अनुसार एचपीवी के खिलाफ प्रतिक्रिया करता है। कुछ लोगों को मौसा होने का खतरा अधिक होता है जबकि अन्य वायरस से प्रतिरक्षित रहते हैं।

मस्सा होने के लक्षण

वैसे तो मस्से आमतौर पर शरीर के किसी हिस्से में त्वचा पर एक अतिरिक्त उभार जैसा दिखता है, लेकिन इसके अलावा और भी लक्षण हैं जिनके बारे में पता होना अच्छा है।

  • मौसा विभिन्न आकारों या रंगों के हो सकते हैं।
  • यह खुरदरा या मुलायम भी हो सकता है।
  • इसका रंग त्वचा के रंग में भूरा, गुलाबी या सफेद भी हो सकता है।
  • हालांकि मस्से में दर्द नहीं होता है, लेकिन अगर यह किसी ऐसे हिस्से में है जहां बार-बार दबाव पड़ता है या वह हिस्सा हिलता-डुलता है जैसे; पैर के तलवे में भी दर्द हो सकता है।
  • रक्त और पोषक तत्वों की आपूर्ति रक्त वाहिकाओं द्वारा की जाती है जो काले डॉट्स की तरह दिखती हैं।

मस्सा होना रोकने के लिए उपाए

मस्सों को रोकने या होने पर उनसे बचने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है, खासकर डाइट प्लान। इससे मस्से से बचा जा सकता है या हो जाने पर इसे कुछ हद तक बढ़ने से रोका जा सकता है।

क्या खाना चाहिए-

  • पालक, केला, ब्रोकली आदि सब्जियां विटामिन से भरपूर होती हैं जो आपके इम्यून सिस्टम को वायरस से लड़ने की ताकत देती हैं।
  • फल प्रतिरक्षा प्रणाली को शक्ति देने और मस्सों को कम करने के लिए भी प्रभावी होते हैं। जैसा; कुछ उदाहरण जामुन, टमाटर, चेरी, कद्दू आदि हैं।
  • प्रोटीन युक्त आहार जैसे; मांस, मछली, मेवा, साबुत अनाज आदि मस्सों में लाभकारी होते हैं।

क्या नहीं खाना चाहिए –

  • सफेद ब्रेड और पास्ता जैसे परिष्कृत और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ।
  • ट्रांस वसा युक्त खाद्य पदार्थ जैसे; केक, कुकीज, डोनट्स आदि।
  • फास्ट फूड जैसे प्याज के छल्ले और फ्रेंच फ्राइज़।
  • ज्यादा शुगर वाली डाइट न लें।

मस्से खत्म करने का इलाज

आमतौर पर लोग मुंहासों, काले धब्बों, काले घेरों के लिए घरेलू नुस्खों का सहारा लेते हैं, वैसे ही मस्सों की समस्या से निजात पाने के लिए सबसे पहले घरेलू नुस्खे अपनाएं। यहां हम बात करेंगे पतंजलि के विशेषज्ञों द्वारा बताए गए कुछ ऐसे घरेलू उपचारों के बारे में जिनके इस्तेमाल से मस्सों की समस्या को कुछ हद तक कम किया जा सकता है-

मस्से दूर करने में फायदेमंद है प्याज का रस

प्याज का रस नियमित रूप से मस्सों पर सुबह-शाम लगाने से लाभ होता है, क्योंकि इससे मस्से धीरे-धीरे सूख जाते हैं।

मस्सों को दूर करने में लाभदायक है फ्लॉस बांधना

मस्से पर फ्लॉस बांधना भी मस्से को दूर करने का एक तरीका है, मस्से को फ्लॉस से बांधने से उनमें खून नहीं बहता, इससे मस्से सूखने लगते हैं, आप पाएंगे कि उनका रंग भी बदल जाता है। कुछ दिनों के बाद वे सूख जाते हैं और गिर जाते हैं।

मस्सों को दूर करने में फायदेमंद है बरगद का पत्ता

मस्सों के इलाज में बरगद के पत्तों का रस भी काफी कारगर साबित हुआ है। बरगद का रस त्वचा पर लगाने से त्वचा मुलायम हो जाती है और मस्से निकल जाते हैं।

मस्सों को दूर करने में फायदेमंद होता है आलू

आलू एक ऐसी सब्जी है, जो हर डिश में डालकर इसका स्वाद बढ़ा देती है, लेकिन आलू भी औषधि का काम करता है, कटे हुए आलू को तुरंत दिन में तीन से चार बार मस्से पर मलें। ऐसा करने से मस्से सूखने लगते हैं और गिरने लगते हैं।

मस्सों को दूर करने में फायदेमंद है अलसी के बीज

अलसी के बीजों को पीस लें। इसके बाद इसमें अलसी का तेल और शहद मिलाकर इस मिश्रण को मस्से पर लगाएं, चार से पांच दिन में आपको परिणाम दिखने लगेगा।

सेब का सिरका मस्सों को दूर करने में फायदेमंद

एक कॉटन बॉल पर थोड़ा सा एप्पल साइडर विनेगर लगाएं और इसे दिन में तीन बार मस्सों पर लगाएं। कुछ ही हफ्तों में मस्से दूर हो जाएंगे।

मस्से दूर करने में फायदेमंद है लहसुन की कली

लहसुन की कली को छीलकर काट लें, फिर इसे मस्से पर मलें। कुछ ही दिनों में मस्सा सूख कर गिर जाएगा।

मस्से दूर करने में फायदेमंद है अनानास

ताजे अनानास को टुकड़ों में काटकर मस्से पर लगाएं, धीरे-धीरे मस्से सूखकर गिर जाते हैं।

मौसा को दूर करने में फायदेमंद है मौसंबी का जूस

मौसम्बी न केवल फल के रूप में स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाता है, बल्कि अगर आप मौसमी के रस की ताजी बूंद नियमित रूप से अपने मस्से पर लगाते हैं, तो इससे भी काफी राहत मिलती है।

मस्से दूर करने में फायदेमंद केले का छिलका

केले के छिलके की मदद से आप मस्से को दूर कर सकते हैं। केले के छिलके को मस्से पर अंदर से लगाएं और उस पर पट्टी बांध दें। ऐसा नियमित रूप से दिन में दो बार करने से मस्से दूर हो जाते हैं।

गर्म पानी का सेंक मस्सों को दूर करने में फायदेमंद

पैरों के मस्से गर्मी के प्रति संवेदनशील होते हैं और अगर आप अपने पैरों को दिन में 15 मिनट गर्म पानी में रखते हैं तो ये कुछ ही हफ्तों में गायब हो सकते हैं।

मुझे डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए?

अगर मस्सा बार-बार निकल रहा है या आकार में बढ़ रहा है, तो डॉक्टर से संपर्क करने में देर नहीं करनी चाहिए। त्वचा विशेषज्ञ केवल त्वचा के विकास को देखकर मस्से का निदान करते हैं, त्वचा की बायोप्सी आमतौर पर उन मामलों में की जाती है जहां विकास के बारे में स्पष्टता की कमी होती है। त्वचा की बायोप्सी के पीछे अन्य कारण भी शामिल हो सकते हैं, जैसे कि क्या विकास गहरा है या केवल आसपास की त्वचा तक फैला हुआ है? रक्तस्राव से जुड़ी अनियमित त्वचा? तेज़ी से बढ़ रहा है?

Disclaimer : यह लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए। HindiQueries.Com इस जानकारी की जिम्मेदारी नहीं लेता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. शरीर पर मस्से होने का क्या मतलब है?

उत्तर :- मस्सा (wart) शरीर पर कहीं कहीं काले रंग का उभरा हुआ मांस का छोटा दाना जो चिकित्साविज्ञान के अनुसार एक प्रकार का चर्मरोग माना जाता है।

2. मस्से कितने प्रकार के होते है?

उत्तर :- मस्से 8 से 12 प्रकार के होते हैं। कई बार बढ़ती उम्र के साथ कई जगह शरीर पर कई तरह के मस्से निकल आते हैं।

Conclusion

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को पतंजलि मस्सा की दवाई (Patanjali Wart Medicine) से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Leave a Comment

x