चन्द्रप्रभा वटी के फायदे | Chandraprabha Vati Ke Fayde

चन्द्रप्रभा वटी के फायदे: चंद्रप्रभा वटी आयुर्वेद में बहुत प्रसिद्ध और उपयोगी वटी है। इसके नाम से भी इसके गुणों का पता चलता है। चंद्र यानि चंद्रमा, प्रभा यानी इसकी चमक यानी चंद्रप्रभा वटी शरीर में चंद्रमा जैसी चमक या तेज और बल पैदा करती है। इसलिए शारीरिक दुर्बलता पैदा करने वाले लगभग सभी रोगों में चन्द्रप्रभा वटी अन्य औषधियों के साथ दी जाती है।

चन्द्रप्रभा वटी के फायदे | Chandraprabha Vati Ke Fayde
चन्द्रप्रभा वटी के फायदे | Chandraprabha Vati Ke Fayde

चंद्रप्रभा वटी एक सदियों पुरानी जड़ी बूटी है जिसमें हर्बल घटक होते हैं जिनमें मूत्रवर्धक गुण होते हैं जो रक्त को उन सभी विषाक्त पदार्थों या अन्य सूक्ष्मजीवों को खत्म करने में मदद करते हैं जो मूत्र पथ के संक्रमण का कारण रहे हैं।

आज के लेख में हम चन्द्रप्रभा वटी के फायदे (Chandraprabha Vati Ke Fayde) के बारे में विस्तार से जानेंगे तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़ें।

चन्द्रप्रभा वटी के फायदे (Chandraprabha Vati Ke Fayde)

चन्द्रप्रभा वटी के फायदे निम्नलिखित हैं:

मधुमेह में लाभकारी है चंद्रप्रभा वटी

स्वामी रामदेव मधुमेह के नियंत्रण के लिए चंद्रप्रभा वटी का उपयोग करते हैं। यह दवा मधुमेह या मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद है।

उच्च रक्त चाप

चंद्रप्रभा वटी में हल्के एंटीहाइपरटेन्सिव प्रभाव होते हैं। जो लोग अत्यधिक शराब का सेवन करते हैं उन्हें उच्च रक्तचाप हो सकता है जिसके परिणामस्वरूप माइग्रेन हो सकता है। जब चंद्रप्रभा वटी का सेवन किया जाता है तो यह हृदय को शक्ति दे सकती है, और रक्तचाप को कम कर सकती है।

चंद्रप्रभा वटी गुर्दे की बीमारियों को ठीक करती है

गुर्दे की विफलता के कारण मूत्र का उत्पादन बहुत कम होता है, जो शरीर में कई रोगों का कारण बनता है और मूत्राशय में विकृति, मूत्र में जलन, श्रोणि में जलन, मूत्र का लाल रंग या अत्यधिक गंध, इन सभी चंद्रप्रभा में होता है। वटी बहुत है। उपयोगी है। इससे किडनी की कार्यक्षमता बढ़ती है, जो शरीर को साफ करती है। यह शरीर से बढ़े हुए यूरिक एसिड और यूरिया जैसे तत्वों को दूर करता है। अगर आप किडनी की बीमारी से पीड़ित हैं तो चंद्रप्रभा वटी का इस्तेमाल किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर से सलाह के बाद ही करें।

मूत्र पथ की सूजन

अगर आपको पेशाब की समस्या है, और वीर्य की समस्या है तो यह वटी जादुई है। साथ ही अगर आपको पेशाब की समस्या या बार-बार पेशाब आने की समस्या, पेशाब में शुगर, एल्ब्यूमिन्यूरिया या ब्लैडर में सूजन की समस्या का सामना करना पड़ता है, तो चंद्र प्रभा वटी के सेवन से इन समस्याओं को ठीक किया जा सकता है।

पतंजलि चंद्रप्रभा वटी से बढ़ाएं शारीरिक और मानसिक शक्ति

दिव्या चंद्रप्रभा वती – 60 ग्राम (120 टैबलेट)

  • खुराक: पानी या दूध के साथ भोजन के बाद या चिकित्सक द्वारा निर्देशित दिन में दो बार 1 से 2 गोलियां.
  • दर्द से रहत दिलाये.
  • वीर्य संबंधी रोगों में राहत.
  • मासिक धर्म के स्थिति में राहत.
  • मधुमेह में लाभकारी.

पतंजलि चंद्रप्रभा वटी के नियमित सेवन से शारीरिक और मानसिक शक्ति बढ़ती है। यह थोड़ी सी मेहनत से होने वाली थकान और तनाव को कम करता है, शरीर में ऊर्जा लाता है और याददाश्त बढ़ाता है। चंद्रप्रभा वटी के लाभों को ध्यान में रखते हुए इसका उपयोग संपूर्ण स्वास्थ्य टॉनिक के रूप में किया जाता है। इसके साथ ही लोध्रसव या पुनर्नवासव का भी प्रयोग करना चाहिए। एक टॉनिक होने के अलावा, चंद्रप्रभा वटी विभिन्न विषाक्त पदार्थों के शरीर से छुटकारा पाने का भी काम करती है।

दर्द से राहत मिलना

चंद्रप्रभा वटी दर्द से राहत दिलाने में बेहद फायदेमंद है। यूरिक एसिड या हड्डी के अन्य विकारों के कारण जोड़ों में दर्द, गठिया, आमवाती दर्द या जोड़ों में सूजन हो सकती है। महिलाओं में मासिक धर्म की अनियमितता के कारण होने वाला मासिक धर्म का दर्द भी ठीक हो जाता है।

Also Read:

वीर्य संबंधी रोगों में चंद्रप्रभा वटी के लाभ

पुरुषों में शुक्राणुओं की अधिक कमी या महिलाओं में मासिक धर्म की अधिकता के कारण शरीर की चमक नष्ट हो जाती है, शरीर का रंग पीला हो जाता है, थोड़ी सी मेहनत, जल्दी थकान, आंखें धँसी हुई, भूख न लगना आदि के कारण वटी का प्रयोग करने से लाभ मिलता है। यह रक्तादि धातु की पुष्टि करता है। यह शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाता है, शुद्ध करता है और रक्त कोशिकाओं का निर्माण करता है। स्वप्नदोष या वीर्य नाड़ियों के कमजोर होने की स्थिति में इसे एक कप गुडूची के साथ लेना चाहिए।

मासिक धर्म

आयुर्वेद दृढ़ता से अनुशंसा करता है कि जब महिलाएं पीसीओएस या पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के लिए दवा का उपयोग करती हैं तो यह उन्हें स्थिति से राहत देती है, और उनके मासिक धर्म में भी सुधार करती है।

प्रोस्टेट ग्रंथि का बढ़ना

जैसे-जैसे पुरुषों की उम्र बढ़ती है, प्रोस्टेट ग्रंथि का आकार बढ़ता जाता है, और पेशाब करते समय बहुत दर्द हो सकता है। प्रोस्टेट की समस्या होने पर भी बार-बार पेशाब आता है। तो चंद्रप्रभा वटी के सेवन से प्रोस्टेट ग्रंथि का बढ़ना कम से कम एक या दो महीने तक ठीक किया जा सकता है।

Disclaimer : यह लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए। HindiQueries.Com इस जानकारी की जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Conclusion

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को चन्द्रप्रभा वटी के फायदे (Chandraprabha Vati Ke Fayde) से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Leave a Comment

x