आदम और हव्वा की कहानी | Adam And Hawa Story In Hindi

नमस्कार दोस्तों! आज मैं आप के लिए लेकर आया हूँ आदम और हव्वा की कहानी (Adam And Hawa Story In Hindi), जिसे पढ़ कर आप को जरुर से आनंद आएगा और कुछ नया सिखने को भी मिलगे।

तो चलिए शुरू करते हैं।

आदम और हव्वा की कहानी (Adam And Hawa Story In Hindi)

आदम और हव्वा की कहानी | Adam And Hawa Story In Hindi
आदम और हव्वा की कहानी | Adam And Hawa Story In Hindi

प्रारंभ में, जब परम भगवान ने पृथ्वी, समुद्र, पौधों और उस पर रहने वाले सभी जीवों को बनाया, तो उन्होंने पहले मनुष्य को बनाया। परमेश्वर ने उसे मिट्टी से अपने स्वरूप में बनाया और उसमें जीवन फूंका और उसका नाम आदम रखा।

परमेश्वर ने उसके रहने के लिए एक सुन्दर बगीचा बनाया जिसमें परमेश्वर ने अदन का बगीचा कहा। यह उद्यान फूलों और वृक्षों से भरा हुआ था और यहाँ हजारों पशु-पक्षी विचरण करते थे। खाने के लिए हर तरह के अलग-अलग पेड़ थे। इनमें से दो पेड़ बहुत खास थे जो बगीचे के बीच में थे, एक जीवन का पेड़ था और दूसरा अच्छाई और बुराई के ज्ञान का पेड़ था।

उस बगीचे को सींचने के लिए अदन से एक बड़ी नदी निकली और वहाँ से आगे बढ़कर चार नदियों में विभाजित हो गई। पहली नदी का नाम “पिशोन” दूसरी नदी का “गिहोन”, तीसरी नदी का नाम “हिद्देकेल” था जिसे हम बाघिन के नाम से भी जानते हैं और चौथी नदी का नाम “यूफ्रेट्स” था जिसे हम यूफ्रेट्स के नाम से जानते हैं।

परमेश्वर ने अदन की वाटिका में आदम को वाटिका की देखभाल करने के लिए रखा। परमेश्वर ने आदम से कहा कि तुम किसी भी पेड़ से फल खा सकते हो, लेकिन अच्छे और बुरे के ज्ञान के पेड़ से कभी नहीं। क्योंकि जिस दिन तुम उस फल को खाओगे उस दिन तुम्हारी मृत्यु निश्चित है।

जल्द ही परमेश्वर को एहसास हुआ कि आदम अकेला था इसलिए उसने आदम के लिए एक साथी बनाने का फैसला किया। तब परमेश्वर सभी जानवरों और पक्षियों को आदम के पास ले आया और उनसे कहा कि वे उनका नाम रखें और आदम ने जीवित प्राणियों को जो नाम दिया, वही उनका नाम हो गया।

परन्तु इसके बाद भी आदम का कोई ऐसा सहायक न मिला जो उसकी बराबरी कर सके। फिर परमेश्वर ने आदम को गहरी नींद में डाल दिया और जब वह सो गया तो उसकी एक पसली निकाली और उसमें से पहली स्त्री बनाकर आदम के पास ले आया।

तब आदम ने कहा, यह तो मेरी हड्डियोंमें की हड्डी और मेरे मांस में का मांस है, सो इसका नाम नारी होगा, क्योंकि यह नर में से निकाली गई है। और इसलिए बाइबल हमें बताती है कि एक आदमी अपने माता-पिता को छोड़कर अपनी पत्नी से जुड़ा रहेगा और वे एक तन बनेंगे। आदम ने उसका नाम हव्वा रखा।

आदम और उसकी पत्नी हव्वा दोनों बाग में नग्न रहते थे, परन्तु लज्जित नहीं थे। उसी बगीचे में एक सांप भी रहता था। एक दिन हव्वा बगीचे में अकेली टहल रही थी। जब सांप ने एक पेड़ से फुसफुसाया और हव्वा से पूछा, “क्या यह सच है कि भगवान ने तुमसे कहा था कि इस बगीचे के किसी भी पेड़ से फल मत खाओ?”

हव्वा ने साँप को उत्तर दिया, “हम इस बाटिका के फल खा सकते हैं, परन्तु यदि हम उस वृक्ष का फल खाएँ या उस वृक्ष को स्पर्श करें जो वाटिका के बीच में है, तो हम मर जाएँगे।”

सांप फुसफुसाया, “तुम नहीं मरोगे। क्योंकि परमेश्वर नहीं चाहता कि तुम भले और बुरे के ज्ञान के वृक्ष का फल खाओ, क्योंकि यदि तुम खाओगे, तो भले और बुरे का ज्ञान पाकर तुम परमेश्वर के तुल्य हो जाओगे।

हव्वा ने फल को देखा और देखा कि यह ताजा और स्वादिष्ट लग रहा था और ज्ञान देने में सक्षम था, इसलिए उसने भले और बुरे के ज्ञान के वृक्ष से एक फल तोड़ा और उसे खा लिया और यह देखकर कि फल स्वादिष्ट था उसने आदम से कहा कि वह साथ ही फलों का सेवन करें। आदम ने एक टुकड़ा लिया और खा लिया।

फल खाने के बाद उन्होंने एक-दूसरे को और खुद को देखा और महसूस किया कि वे नग्न हैं और शर्म महसूस करते हैं और उन्होंने अपने शरीर को ढकने के लिए अंजीर के पत्तों से खुद को कपड़े बना लिया।

तब उन्होंने परमेश्वर को आते देखा। वे उसका सामना करने से डरते थे इसलिए उन्होंने छिपने की कोशिश की। परन्तु परमेश्वर ने जान लिया कि उन्होंने वह फल खा लिया है।

आदम हव्वा को उसे फल खिलाने के लिए दोष देने की कोशिश करता है, और हव्वा उसे धोखा देने के लिए साँप को दोषी ठहराती है। तब भगवान ने सांप को दंड दिया और कहा, “तुमने जो किया है उसके कारण तुम अधिक शापित हो और अब से तुम पेट के बल चलोगे और मिट्टी चाटोगे और मनुष्य तुम्हें कुचल डालेगा।”

फिर परमेश्वर ने आदम से कहा, “तुम्हें फसल उगाने और भोजन बनाने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी, और अंत में तुम मिट्टी में लौट जाओगे क्योंकि तुम उसमें से निकाले गए हो।” और हव्वा से कहा, ‘तू प्रसव पीड़ा सहेगी।’ इसलिए हव्वा उन सभी मनुष्यों की पहली माँ बनी जो जीवित हैं।

तब परमेश्वर ने आदम और हव्वा के लिये चमड़े के वस्त्र बनाकर उनको पहिनाए। तब परमेश्वर ने उनसे कहा कि ऐसा न हो कि वे जीवन का फल खाकर सर्वदा जीवित रहें।

इसलिए परमेश्वर ने आदम और हव्वा को अदन की वाटिका से निकाल दिया और संरक्षक स्वरातोतो को जीवन के वृक्ष के पास रखा और उसके चारों ओर घूमने वाली ज्वाला में तलवार को भी रखा। इस प्रकार मनुष्य को ईश्वर ने बनाया और उस धरती पर भेजा जिससे वह बनाया गया था।



आदम और हव्वा की कहानी से सम्बंधित अन्य सर्च कीवर्ड

  • आदम और हव्वा की कहानी
  • आदम और हव्वा कौन थे
  • आदम और हव्वा की उत्पत्ति
  • आदम और हव्वा
  • आदम की कहानी
  • हव्वा की कहानी
  • Adam And Hawa Story
  • Adam Aur Hawa Ki Kahani
  • Adam & Hawa
  • Adam And Hawa
  • Adam And Eve Story In Hindi
  • Adam Aur Hawa
  • Story Of Adam And Eve In Hindi

अंतिम शब्द

मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको आदम और हव्वा की कहानी (Adam And Hawa Story In Hindi) पसंद आई होगी। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के साथ भी जरूर शेयर करें जो लोग आदम और हव्वा की कहानी के बारे में जानना चाहतें हैं, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Leave a Comment

x
10 Facts You Didn’t Know About Mandy Rose (Wrestler) 10 Facts You Didn’t Know About Kehlani (Singer) 10 Facts You Didn’t Know About Jenna Ortega (Actress) 10 Facts You Didn’t Know About Emily Blunt (Actress) 10 Facts You Didn’t Know About Maria Telkes