सोने का सही तरीका क्या है? (Right Sleeping Position in Hindi)

बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिनको पता नहीं होता है कि हमें कैसे सोना चाहिए और कैसे नहीं? और वे ढूढ़ते हैं कि सोने का सही तरीका क्या है? (Right Sleeping Position in Hindi) तो आप इस लेख को पूरा पढ़ें। जिससे आप लोगों को सोने का सही तरीका से जुड़ी सभी जरूरी जानकारियाँ मिल जायेंगी।

सोने का सही तरीका क्या है? (Right Sleeping Position in Hindi) ऐसे कई कारक हैं जो नींद की गुणवत्ता में योगदान करते हैं जैसे जीवनशैली और आहार। क्या आप जानते हैं कि आपकी सोने की पोज़ीशन आपकी नींद की गुणवत्ता और शरीर पर इसके प्रभाव को भी प्रभावित कर सकती है।

मानव शरीर के स्वस्थ कामकाज को बनाए रखने के लिए नींद अत्यंत आवश्यक है। नियमित नींद की कमी या पर्याप्त नींद न लेने से कई बीमारियों के विकसित होने का खतरा बढ़ सकता है। नींद की कमी से रक्तचाप का स्तर बढ़ सकता है, जिसका सीधा असर हृदय पर पड़ता है।

दिन भर की थकान के बाद रात को अच्छी नींद लेनी चाहिए। आठ घंटे की अच्छी नींद लेना जितना जरूरी है, उतना ही जरूरी है कि हम सही अवस्था में सोयें। सही पोजीशन में नहीं सोने से शरीर, पीठ और सिर में दर्द की शिकायत रहती है। इसके अलावा पेट से जुड़े कई रोग भी हो जाते हैं। शरीर भी फिट नहीं रहेगा।

सोने का सही तरीका क्या है (Right Sleeping Position in Hindi)
सोने का सही तरीका क्या है (Right Sleeping Position in Hindi)

खराब नींद भी कमजोर प्रतिरक्षा, संज्ञानात्मक अक्षमता और कम कामेच्छा का कारण बन सकती है। ऐसे कई कारक हैं जो नींद की गुणवत्ता में योगदान करते हैं जैसे जीवनशैली और आहार। क्या आप जानते हैं कि आपकी नींद की स्थिति आपकी नींद की गुणवत्ता और शरीर पर इसके प्रभाव को भी प्रभावित कर सकती है।

सोने के लिए सही दिशा

उत्तर दिशा की ओर सिर करके नहीं सोना चाहिए। यह कोई मिथक नहीं है, बल्कि इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण है। शरीर एक चुंबक की तरह होता है, जिसके सिर पर धनात्मक आवेश होता है और पैर की ओर ऋणात्मक आवेश होता है। इसी प्रकार उत्तर दिशा धनात्मक तथा दक्षिण दिशा ऋणात्मक आवेश है। यह भी पता चलता है जब आप कंपास रखते हैं, यानी दिशा मापी जाती है।

यह बी पढ़ें: पित्त की थैली निकालने के बाद नुकसान

आप यह भी जानते हैं कि जब चुम्बक का धनावेशित भाग धनावेशित भाग की ओर बढ़ता है तो वह उससे दूर भागता है, उसे धक्का देता है। इसी तरह, जब आप उत्तर की ओर सिर करके सोते हैं, तो आपके सिर में रक्त का प्रवाह प्रभावित होता है। इसलिए दक्षिण की ओर सिर करके सोने की सलाह दी जाती है।

सोने के लिए सही तकिए को चुने

सोते समय सही तकिए का चुनाव करना बहुत जरूरी है। मोटे और ऊंचे तकिये के साथ सोने से गर्दन की हड्डी पर दबाव पड़ता है, जिससे स्पॉन्डिलाइटिस हो सकता है। इससे सिरदर्द और रीढ़ की हड्डी में दर्द हो सकता है। इसलिए तकिए को जितना हो सके मुलायम और पतला रखें।

सोने का सही तरीका क्या है? (Right Sleeping Position in Hindi)

1. पीठ के बल सोयें

सोने का सबसे अच्छा तरीका पीठ के बल सोना है। पीठ के बल सोते समय सिर, गर्दन और रीढ़ की हड्डी आदि अंग सामान्य अवस्था में रहते हैं जिससे आपको बहुत अच्छी नींद आती है और ऐसे में सोना भी सेहत के लिए फायदेमंद होता है। लोग कभी-कभी इसे तारामछली की अवस्था कहते हैं।

इस पोजीशन में आपके दोनों पैर सीधे हों और दोनों हाथ आपके तकिए के ऊपर हों। जो लोग पीठ के बल सोते हैं उन्हें भी स्वास्थ्य लाभ होता है। जो लोग अपनी पीठ के बल सोते हैं, उनके लिए यह एक संतुलित और अच्छी स्थिति है यदि वे एसिड के जमाव या एसिड रिफ्लक्स से पीड़ित हैं या झुर्रियों को रोकना चाहते हैं। अगर आपके कंधों में दर्द है तो इस पोजीशन में न सोएं।

2. बायीं करवट सोयें

यदि आप बायीं करवट सोते हैं तो आपके स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। बायीं करवट सोने से रक्त का प्रवाह ठीक से होता है और नींद भी अच्छी आती है। ऐसे सोने वालों की संख्या ज्यादा है। डॉक्टर भी बाईं करवट सोने की सलाह देते हैं। अगर आप करवट लेकर सोते हैं तो आपके लीवर, पेट, फेफड़े और दिल पर दबाव बढ़ता है।

बायीं करवट सोने से खाना पचने में आसानी होती है और यह आपके पाचन तंत्र पर ज्यादा दबाव नहीं डालता है। इससे शरीर में जमा हुआ जहरीला तत्व लसीका तंत्र के जरिए बाहर निकल जाता है। अगर आप बायीं करवट सोते हैं तो पेट का एसिड ऊपर की बजाय नीचे की ओर बढ़ता है जिससे एसिडिटी और हार्टबर्न नहीं होता है।

3. पेट के बल न सोयें

अक्सर कई लोगों को पेट के बल सोना अच्छा लगता है। इस तरह उन्हें सोने की आदत हो जाती है। लेकिन आपको बता दें कि पेट के बल लेटना या सोना सेहत के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं है, क्योंकि इस अवस्था में सोने से सिर, गर्दन और रीढ़ की हड्डी अपनी सामान्य स्थिति में नहीं रहती है।

इस तरह सोने से शरीर और जोड़ों में दर्द भी हो सकता है इसलिए इस अवस्था में न सोएं। पैरों को मोड़कर न सोएं बहुत से लोग पैरों को छाती की तरफ मोड़कर सोते हैं। इस अवस्था में सोना सेहत के लिए सबसे ज्यादा हानिकारक होता है। इससे गर्दन और पीठ में दर्द होता है, इसके अलावा छाती पर भी इसका बुरा असर पड़ता है।

4. बच्चे की तरह सोना

यह घुमावदार पोज़ीशन अक्सर बच्चों और बूढ़ों के बीच आम है। इस तरह सोने से पीठ के दर्द में आराम मिलता है। गर्भवति महिलाओं को भी इस पोज़ीशन से फायदा मिल सकता है। जिन लोगों को खर्राटे लेने की आदत है, उन्हें भी इस पोज़ीशन से फायदा पहुंच सकता है। असज पोज़ीशन में सोने से बदन दर्द और सांस लेने में तकलीफ हो सकती है।

अच्छी नींद के लिए

कई बार कुछ चिंता या असंतुलित भोजन के कारण रात को नींद नहीं आती है, बेचैनी बनी रहती है। इसलिए अच्छी नींद के लिए शवासन में सोने का अभ्यास करें। पीठ के बल सीधे लेट जाएं। बाजुओं को शरीर के समानांतर सीधा रखें। शरीर को पूरी तरह ढीला छोड़ दें। फिर अपनी आंखें बंद कर लें और दोनों पंजों पर ध्यान दें।

सोचो कि अंगूठे भारी हो गए हैं, मानो उन पर भारी पत्थर बंधे हों। उन्हें स्थानांतरित करना मुश्किल है। इसी तरह धीरे-धीरे ऊपर की ओर बढ़ते रहें। अपने पूरे शरीर को आराम महसूस करें। यह इतना शिथिल हो गया है कि आप चाहकर भी इसे हिला नहीं सकते। फिर महसूस करें कि आप धीरे-धीरे गहरी नींद में जा रहे हैं। इस तरह न केवल अच्छी और गहरी नींद आती है, बल्कि शरीर भी स्वस्थ रहता है।

यह भी पढ़ें: हाइट कैसे बढ़ाये पूरी जानकारी हिन्दी में

Disclaimer: यह लेख केवल शैक्षिक उद्देश्यों के लिए हैं। यहाँ पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार हेतु बिना विशेषज्ञ की सलाह के नहीं किया जाना चाहिए। चिकित्सा परीक्षण और उपचार के लिए हमेशा एक योग्य चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए। HindiQueries.Com इस जानकारी की जिम्मेदारी नहीं लेता है।

Conclusion

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को सोने का सही तरीका क्या है? (Right Sleeping Position in Hindi) से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

Leave a Comment

x