शिव पंचाक्षर स्तोत्र अर्थ सहित | Shiv Panchakshar Stotram in Hindi

शिव पंचाक्षर मंत्र, शिव पंचाक्षर स्तोत्र अर्थ सहित, ॐ नमः शिवाय मंत्र सिद्ध कैसे करें, Shiv Panchakshar Stotra Lyrics, Shiv Panchakshar Stotra PDF, Shiva Panchakshara Stotram, Shiva Panchakshari Mantra, Shiv Panchakshar Stotram In Hindi

Shiv Panchakshar Stotram in Hindi

यदि आप भी शिव पंचाक्षर स्तोत्रम् पढ़ना चाहते हैं, तो यह लेख आपके लिए है। यहाँ पर आपको शिव पंचाक्षर स्तोत्र का पाठ हिन्दी में (Shiv Panchakshar Stotram In Hindi) में दिया गया है। जिसे आप पढ़ सकते हैं।

शिव पंचाक्षर स्तोत्रम् का पाठ (Shiv Panchakshar Stotram In Hindi)

शिवपञ्चाक्षर स्तोत्र के रचयिता आदि गुरु शंकराचार्य हैं, जो परम शिवभक्त थे। शिवपञ्चाक्षर स्तोत्र पंचाक्षरी मन्त्र नमः शिवाय पर आधारित है।
न – पृथ्वी तत्त्व का
म – जल तत्त्व का
शि – अग्नि तत्त्व का
वा – वायु तत्त्व का और
य – आकाश तत्त्व का प्रतिनिधित्व करता है।

नागेन्द्रहाराय त्रिलोचनाय भस्माङ्गरागाय महेश्वराय।
नित्याय शुद्धाय दिगम्बराय तस्मै नकाराय नम: शिवाय॥

हिन्दी अर्थ :- जिनके कण्ठ में सर्पों का हार है, जिनके तीन नेत्र हैं, भस्म ही जिनका अंगराग है और दिशाएँ ही जिनका वस्त्र हैं अर्थात् जो दिगम्बर (निर्वस्त्र) हैं ऐसे शुद्ध अविनाशी महेश्वर  कारस्वरूप शिव को नमस्कार है।

मन्दाकिनीसलिलचन्दनचर्चिताय, नन्दीश्वरप्रमथनाथमहेश्वराय।
मन्दारपुष्पबहुपुष्पसुपूजिताय, तस्मै मकाराय नम: शिवाय॥

हिन्दी अर्थ :- गङ्गाजल और चन्दन से जिनकी अर्चना हुई है, मन्दार-पुष्प तथा अन्य पुष्पों से जिनकी भलिभाँति पूजा हुई है। नन्दी के अधिपति, शिवगणों के स्वामी महेश्वर  कारस्वरूप शिव को नमस्कार है।

शिवाय गौरीवदनाब्जवृन्द सूर्याय दक्षाध्वरनाशकाय।
श्रीनीलकण्ठाय वृषध्वजाय, तस्मै शिकाराय नम: शिवाय॥

हिन्दी अर्थ :- जो कल्याणस्वरूप हैं, पार्वतीजी के मुखकमल को प्रसन्न करने के लिए जो सूर्यस्वरूप हैं, जो दक्ष के यज्ञ का नाश करनेवाले हैं, जिनकी ध्वजा में वृषभ (बैल) का चिह्न शोभायमान है, ऐसे नीलकण्ठ शि कारस्वरूप शिव को नमस्कार है।

वसिष्ठकुम्भोद्भवगौतमार्य मुनीन्द्रदेवार्चितशेखराय।
चन्द्रार्कवैश्वानरलोचनाय, तस्मै वकाराय नम: शिवाय॥

हिन्दी अर्थ :- वसिष्ठ मुनि, अगस्त्य ऋषि और गौतम ऋषि तथा इन्द्र आदि देवताओं ने जिनके मस्तक की पूजा की है, चन्द्रमा, सूर्य और अग्नि जिनके नेत्र हैं, ऐसे  कारस्वरूप शिव को नमस्कार है।

यक्षस्वरूपाय जटाधराय, पिनाकहस्ताय सनातनाय।
दिव्याय देवाय दिगम्बराय, तस्मै यकाराय नम: शिवाय॥

हिन्दी अर्थ :- जिन्होंने यक्ष स्वरूप धारण किया है, जो जटाधारी हैं, जिनके हाथ में पिनाक है, जो दिव्य सनातन पुरुष हैं, ऐसे दिगम्बर देव  कारस्वरूप शिव को नमस्कार है।

पञ्चाक्षरमिदं पुण्यं य: पठेच्छिवसन्निधौ।
शिवलोकमवाप्नोति शिवेन सह मोदते॥

हिन्दी अर्थ :- जो शिव के समीप इस पवित्र पञ्चाक्षर स्तोत्र का पाठ करता है, वह शिवलोक को प्राप्त होता है और वहाँ शिवजी के साथ आनन्दित होता है।

Sri Shiva Chalisa with Tandav Stotram

शिव तांडव स्तोत्र | Shiv Tandav Stotram In Hindi
  • शिव चालीसा
  • शिव तांडव स्तोत्रं
  • वजन : 200 ग्राम
  • 245 पेज
  • 5% कैशबैक
  • भाषा : हिन्दी

Shiv Panchakshar Stotram Lyrics in Hindi

अंतिम शब्द

मैं उम्मीद करता हूँ कि अब आप लोगों को शिव पंचाक्षर स्तोत्रम् का पाठ (Shiv Panchakshar Stotram In Hindi) से जुड़ी सभी जानकरियों के बारें में पता चल गया होगा। यह लेख आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट्स बॉक्स में कमेंट्स लिखकर जरूर बतायें। साथ ही इस लेख को दूसरों के जरूर share करें, ताकि सबको इसके बारे में पता चल सके। धन्यवाद!

महत्वपूर्ण लिंक
* हनुमान जी की आरती
* हनुमान चालीसा हिंदी में
* शनि चालीसा हिंदी में
* शिव तांडव स्तोत्र
* हाइट कैसे बढ़ाये पूरी जानकारी हिन्दी में

Leave a Comment

x