आहार का कुप्रभाव | Moral Stories in Hindi

नमस्कार दोस्तो, Hindi Queries में आपका स्वागत है। यहाँ पर आपको Moral Stories, Moral Stories in Hindi, Moral Stories in Hindi Short, Short Moral Stories in Hindi और भी स्टोरी मिलेंगे।

आहार का कुप्रभाव | Moral Stories in Hindi

“किसी नगर में एक भिखारिन एक गृहस्थी के यहाँ नित्य भीख मांगने जाती थी। गृहिणी नित्य ही उसे एक मुठ्ठी चावल दे दिया करती थी। यह बुढ़िया का दैनिक कार्य था और महीनों से नहीं कई वर्षों से यह कार्य बिना रुकावट के चल रहा था।

Moral Stories in Hindi

एक दिन भिखारिन चावलों की भीख खाकर ज्यों ही द्वार से मुड़ी,गली में गृहिणी का ढाई वर्ष का बालक खेलता हुआ दिखाई दिया।

बालक के गले में एक सोने की जंजीर थी। बुढ़िया की नीयत बदलते देर न लगी। इधर-उधर दृष्टि दौड़ाई,गली में कोई और दिखाई नहीं पड़ा। बुढ़िया ने बालक के गले से जंजीर ले ली और चलती बनी।

घर पहुँची,अपनी भीख यथा स्थान रखी और बैठ गई। सोचने लगी,”जंजीर को सुनार के पास ले जाऊंगी और इसे बेचकर पैसे खरे करुँगी।” यह सोचकर जंजीर एक कोने में एक ईंट के नीचे रख दी।

भोजन बनाकर और खा पीकर सो गई। प्रातःकाल उठी,शौचादि से निवृत्त हुई तो जंजीर के सम्बन्ध में जो विचार सुनार के पास ले जाकर धन राशि बटोरने का आया था उसमें तुरंत परिवर्तन आ गया।

Moral Stories in Hindi

बुढ़िया के मन में बड़ा क्षोभ पैदा हो गया। सोचने लगी-“यह पाप मेरे से क्यों हो गया? क्या मुँह लेकर उस घर पर जाऊंगी?” सोचते-सोचते बुढ़िया ने निर्णय किया कि जंजीर वापिस ले जाकर उस गृहिणी को दे आयेगी। बुढ़िया जंजीर लेकर सीधी वहीं पहुँची। द्वार पर बालक की माँ खड़ी थी।

उसके पांवों में गिरकर हाथ जोड़कर बोली-“आप मेरे अन्नदाता हैं। वर्षों से मैं आपके अन्न पर पल रही हूँ। कल मुझसे बड़ा अपराध हो गया,क्षमा करें और बालक की यह जंजीर ले लें।”

जंजीर को हाथ में लेकर गृहिणी ने आश्चर्य से पूछा-“क्या बात है? यह जंजीर तुम्हें कहाँ मिली?” भिखारिन बोली-“यह जंजीर मैंने ही बालक के गले से उतार ली थी लेकिन अब मैं बहुत पछता रही हूँ कि ऐसा पाप मैं क्यों कर बैठी?”

गृहिणी बोली-“नहीं, यह नहीं हो सकता। तुमने जंजीर नहीं निकाली। यह काम किसी और का है,तुम्हारा नहीं। तुम उस चोर को बचाने के लिए यह नाटक कर रही हो।”

Moral Stories in Hindi

“नहीं,बहिन जी,मैं ही चोर हूँ। कल मेरी बुद्धि भ्रष्ट हो गई थी। आज प्रातः मुझे फिर से ज्ञान हुआ और अपने पाप का प्रायश्चित करने के लिए मैंने आपके सामने सच्चाई रखना आवश्यक समझा,” भिखारिन ने उत्तर दिया। गृहिणी यह सुनकर अवाक् रह गई।

भिखारिन ने पूछा-“क्षमा करें,क्या आप मुझे बताने की कृपा करेंगी कि कल जो चावल मुझे दिये थे वे कहाँ से मोल लिये गये हैं।”

गृहिणी ने अपने पति से पूछा तो पता लगा कि एक व्यक्ति कहीं से चावल लाया था और अमुक पुल के पास बहुत सस्ते दामों में बेच रहा था। हो सकता है वह चुराकर लाया हो। उन्हीं चोरी के चावलों की भीख दी गई थी।

भिखारिन बोली-“चोरी का अन्न पाकर ही मेरी बुद्धि भ्रष्ट हो गई थी और इसी कारण मैं जंजीर चुराकर ले गई। वह अन्न जब मल के रूप में शरीर से निकल गया और शरीर निर्मल हो गया तब मेरी बुद्धि ठिकाने आई और मेरे मन ने निर्णय किया कि मैंने बहुत बड़ा पाप किया है।

Moral Stories in Hindi

मुझे यह जंजीर वापिस देकर क्षमा माँग लेनी चाहिए।”

गृहिणी तथा उसके पति ने जब भिखारिन के मनोभावों को सुना तो बड़े अचम्भे में पड गये। भिखारिन फिर बोली-“चोरी के अन्न में से एक मुठ्ठी भर चावल पाने से मेरी बुद्धि भ्रष्ट हो सकती है

तो वह सभी चावल खाकर आपके परिवार की क्या दशा होगी,अतः, फेंक दीजिए उन सभी चावलों को।” गृहिणी ने तुरन्त उन चावलों को बाहर फेंक दिया।”

यदि आपको आहार का कुप्रभाव | Moral Stories in Hindi article पसंद आया और कुछ नया सिखने को मिला तो इसको अपने मित्रो के साथ शेयर करना ना भूले। इस आर्टिकल को आप ज्यादा से ज्यादा लोगो के पास पहुचाये जिस से उन सभी को लाभदाई हो सके

इस पोस्ट को अपने मित्रों के साथ Social Networks जैसे कि WhatsApp, Facebook और Twitter इत्यादि पर share कीजिये, तो मिलते है किसी नए रोमांचक Article के साथ ।

Leave a Reply